जब मैं सपा में थी तब भी आजम खान ऐसी ही टिप्पणी करते थे और अखिलेश चुप रहते थे

जब मैं सपा में थी तब भी आजम खान ऐसी ही टिप्पणी करते थे और अखिलेश चुप रहते थे

मथुरा। आजम खान द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी पर पलटवार करते हुए रामपुर से भाजपा उम्मीदवार जया प्रदा ने कहा है कि यह मेरे लिए कोई नई बात नहीं है, आपको याद होगा कि मैं ‘2009 ‘में उनकी पार्टी की उम्मीदवार थी तब भी वो मेरे खिलाफ टिप्पणी करते थे और मेरा अखिलेश यादव ने भी समर्थन नहीं किया था। मैं एक महिला हूं और मैं उनके बयानों को दोहरा भी नहीं सकती। जया ने कहा कि मुझे नहीं पता कि वह ऐसी बातें कैसे कह रहे हैं।
उन्होंने कहा कि उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। क्योंकि अगर यह आदमी जीत गया, तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं होगी। हम कहाँ जाएँगे? क्या मैं मर जाऊं, तब आप संतुष्ट होंगे? आप सोचते हैं कि मैं डर जाऊंगी और रामपुर छोड़ दूंगी? लेकिन मैं नहीं छोड़ूंगी। जया ने आजम को भाई बोलने से इनकार करते हुए कहा कि वह उनकी बयानों से डरने वाली नहीं हैं।
उन्होंने पूछा कि क्या उनके घर में महिलाएं नहीं हैं जो वह इस तरह से महिलाओं के बारे में बात करते हैं। बता दें कि रामपुर में एक चुनावी सभा में आजम खान ने कहा रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिंदुस्तान वालों! उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए। मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का जो अंडरवियर है वह भी खाकी रंग का है। मैं 17 दिन में पहचान गया, आपको पहचानने में 17 बरस लगे, 17 बरस। हालांकि आजम ने सफाई देते हुए कहा कि मैंने किसी का नाम नहीं लिया है। मुझे पता है कि मुझे क्या कहना चाहिए। अगर कोई साबित कर सकता है कि मैंने किसी का नाम कहीं भी लिया है और किसी का अपमान किया है, तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा।