featured धर्म

जानिए क्या है सोम प्रदोष व्रत और इसकी पूजन विधि

जानिए क्या है सोम प्रदोष व्रत और इसकी पूजन विधि

लखनऊ: कोरोना महामारी के बीच भगवान के दर पर भी भक्तों लगातार बेहतर स्वास्थ्य के लिए दुआ मांग रहे हैं। सोम प्रदोष व्रत 2021 की अलग महत्ता है, इस बार यह व्रत 24 मई को पड़ रहा है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है।

सोम प्रदोष व्रत में भगवान शिव की होगी आराधना

महादेव की आराधना करने के लिए भक्तों के लिए यह दिन काफी उत्तम होता है। 24 मई को सोम प्रदोष व्रत होगा, इस दौरान सभी अपने आराध्य से बेहतर स्वास्थ्य और अच्छे भविष्य की कामना करेंगे। पूजा करने के लिए सबसे उपयुक्त समय सुबह 3:38 से शुरू होकर देर रात 12:11 तक है।

इसी दौरान सभी भगवान शंकर की आराधना करेंगे। पूजा करने के लिए सबसे उपयुक्त समय 2 घंटे 10 मिनट का होगा। यह समय सीमा 7:09 से 9:20 तक होगी। इसी दौरान पूजा करने से ज्यादा लाभ मिलेगा।

पूरे होंगे सभी मनोरथ

धार्मिक मान्यता के अनुसार सोम प्रदोष व्रत में पूजा अर्चना करने से सभी दोस्त मिट जाते हैं और भक्तों की सारी मनोकामना पूरी होती है। इसके साथ ही भगवान महादेव की कृपा भी सभी को प्राप्त होती है। कोरोना काल के दौरान यह व्रत किसी बड़े सौभाग्य से कम नहीं है।

Related posts

चंद्रशेखर बोले- अधिकार मांगने पर लाठियां मिली, जब वोट मांगने आएंगे तब…

Shailendra Singh

सरकार के विरोध में देशव्यापी प्रदर्शन करेगा किसान संघ

Shailendra Singh

ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ संभव नहीं : चुनाव आयोग

Rahul srivastava