January 31, 2023 11:43 am
Breaking News धर्म पर्यटन

Roap-Way से बरसाना में पर्यटक कर सकेंगे राधारानी के मंदिर के दर्शन

radha rani temple Roap-Way से बरसाना में पर्यटक कर सकेंगे राधारानी के मंदिर के दर्शन

मथुरा। अगर आप मथुरा जा रहे हैं और वहां राधारानी के दर्शन करने के लिए आपकी समर्थता नहीं है वो भी सीढ़ियों पर चढ़ने को लेकर तो जरा रुक जाइए…  क्योंकि आपके लिए खुशखबरी है। ब्रह्मांचल पर्वत पर तकरीबन 600 फीट की ऊॅंचाई पर स्थित राधारानी मंदिर के दर्शनों के लिए ब्रज तीर्थ विकास परिषद रोप-वे बनाने जा रहा है।

रोप-वे बनने से, 187 मीटर की ऊॅंचाई पर स्थित मंदिर तक कुछ ही मिनट में पहुंचा जा सकेगा। भगवान राम के वनवास दौरान उनकी विश्राम स्थली रही चित्रकूट के बाद अब भगवान श्रीकृष्ण और राधारानी की लीला भूमि बरसाना में रोप-वे तैयार होने जा रहा है। इसके लिए पर्यावरण संबंधी मामले में उच्चतम न्यायालय से भी हरी झंडी मिल चुकी है। उम्मीद है कि जुलाई माह में वन विभाग की जमीन का हस्तांतरण हो जाने के बाद परियोजना मूर्त रूप लेने लगेगी।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की पूर्ववर्ती सरकार के दौरान ही चित्रकूट के विन्ध्यांचल पर्वत और मथुरा के बरसाना स्थित ब्रह्मांचल पर्वत की पहाड़ियों पर रोप-वे बनाने की योजना तैयार की गई थी। लेकिन मथुरा में यह योजना पर्यावरण संबंधी स्वीकृति में उलझ गई तो संबंधित कंपनी ने चित्रकूट को प्राथमिकता देते हुए वहां पहले काम शुरु करा दिया।

परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष नागेंद्र प्रताप ने बताया, ‘चित्रकूट में रोप-वे तैयार होने के साथ ही अब मथुरा में भी रोप-वे के निर्माण में आ रही सभी बाधाएं दूर कर ली गई हैं। सिर्फ वन संबंधी जमीन का हस्तांतरण बाकी है, जिसके एक माह में हो जाने की संभावना है।’ उन्होंने बताया, ‘ब्रज क्षेत्र के पर्यटन विकास की सम्भावनाओं के मद्देनजर ब्रज तीर्थ विकास परिषद को बरसाना में यह सुविधा उपलब्ध कराने का विचार आया। इस पर तैयारी की जा चुकी थी। लेकिन कुछ कानूनी अड़चनों के चलते कार्य में विलम्ब हो रहा था। अब उन सभी समस्याओं का निराकरण हो चुका है।

प्रताप ने बताया, ‘यह परियोजना पब्लिक-प्राईवेट-पार्टनरशिप मॉडल के आधार पर विकसित की जाएगी। निजी क्षेत्र की कंपनी ही इसका निर्माण और संचालन करेगी। उन्होंने कहा कि 200 मीटर के रोप-वे के निर्माण में लगभग 20 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। परियोजना एक साल में पूरी हो जाएगी। सम्भवत: अगले वर्ष लठामार होली तक श्रद्धालुओं के लिए रोप-वे चालू हो जाएगा।

Related posts

शिवसेना ने किया हल्लाबोल, बीजेपी के लिए जारी कि भ्रष्टाचार की बुकलेट

Pradeep sharma

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद चिन्मयानंद के संत दर्जे को वापस लेने को तैयार

bharatkhabar

ट्रंप के पास एस400 डील में छूट देने का पूरा मौका है, भारत को मिलेगी राहत

bharatkhabar