दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में होगी नई क्रांति, सुन्दरम् की पहल पर सहकारिता विभाग रचेगा इतिहास

अमूल दा टेस्ट ऑफ इंडिया नाम लेते ही।इसके दुग्ध उत्पादन की तस्वीर जहन में आ जाती है।अब यही अमूल देवभूमि उत्तराखंड में आने वाला है।जी हां अमूल का स्वाद और ब्रांड अब उत्तराखंड के दुग्ध सहकारिता समिति आंचल के साथ अपने उत्पादों को लेकर आने वाला है।बता दें कि सहकारिता मंत्री धन सिंह रावत और सहकारिता सचिव आर.मिनाक्षी सुन्दरम की मेहनत से यह सपना साकार होने जा रहा है।

 

उत्तराखंडः दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में होगी नई क्रांति,सहकारिता विभाग रचेगा इतिहास

 

इसे भी पढें-  विश्व दुग्ध दिवस के मौके पर राधा मोहन सिंह ने कहा, हम दुनिया के सबसे बड़े दूध उत्पादन देश

उत्तराखंड में प्लांट लगाने को लेकर सहकारिता सचिव आर.मिनाक्षी सुन्दरम ने जानकारी दी

अमूल ब्रांड के उत्तराखंड में प्लांट लगाने को लेकर सहकारिता सचिव आर.मिनाक्षी सुन्दरम ने जानकारी दी कि अमूल से एक प्रारम्भिक बात-चीत हुई थी। अमूल ने उत्तराखंड में आइसक्रीम प्लांट लगाने की बात की थी।सुन्दरम ने कहा कि आइसक्रीम के साथ-साथ हम बटर और घी के प्लांट की भी बात करेंगे।उन्होंने कहा जो हमारी प्रोक्योरमेंट है उसको एक्सप्लेन किया जाएगा।साथ ही सुन्दरम ने कहा कि हम प्रयास करेंगे कि एक बड़ा प्लांट यहां पर लग जाए,और यदि यह बाच-चीत तय हो जाती है तो 4 अक्टूबर को प्रधानमंत्री के आने पर एग्रीमेंट साइन सेरेमनी रखी जाएगी।


इसे भी पढ़ेंः सहकारिता विभाग उत्तराखंड और एनसीडीसी के सहयोग से बदलेगी पर्वतीय क्षेत्रों की तस्वीर- आर. मिनाक्षी सुन्दरम्

सुन्दरम ने बताय की हमारा जो डेयरी सेक्टर है ‘आंचल’  उकी स्टडी करने में कई कमियां साने आयीं है जैसे- प्रोक्योरमेंट कमजोर और धीमें है,लेकिन इसमे काफी सुधार कर लिया है। काफी हद तक इसमें बड़ोत्री की गई है। उन्होने बताया कि हमारी मार्केटिंग,वर्किंग सिस्टम भी कमजोर है,प्रोसेसिंग सिस्टम भी कमजोर है। आर्मी से ऐनीमल का इंडेक्शन कर रहे है। जिससे मार्केटिंग सिस्टम दुगना हो जाएगा।

प्रोजेक्ट के नामकरण को लेकर कहा कि इसका नाम दो कोआपरेटिव की पार्टनरशिप  को सीसीपी नाम दिया जाएगा

सुन्दरम ने इस प्रोजेक्ट के नामकरण को लेकर कहा कि इसका नाम दो कोआपरेटिव की पार्टनरशिप  को सीसीपी नाम दिया जाएगा। जो यूनीक नाम होगा।अमूल के एड को फुल एंबिएन्स में दिखाते हुए ये अमूल दा टेस्ट ऑफ इंडिया का वो विज्ञापन में जिसने देश ही नहीं बल्कि विदेशों तक अमूल के स्वाद और दूध से बने उत्पाद को पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

सूबे के दुग्ध उत्पादन के व्यवसाय से जुड़े किसानों के साथ सहकारिता समितियों को भी बड़ा लाभ मिलेगा

गौरतलब है कि हम यहां अमूल का प्रचार नहीं बल्कि ये बताना चाह रहे हैं कि जल्द ही उत्तराखंड की दुग्ध सहकारिता समिति ऑंचल और अमूल के बीच एक बड़ा समझौता होने जा रहा है।जिसके बाद सूबे के दुग्ध उत्पादन के व्यवसाय से जुड़े किसानों के साथ सहकारिता समितियों को भी बड़ा लाभ मिलेगा।क्योंकि सूबे का सहकारिता विभाग आंनद में अमूल के साथ एक बड़ा प्लान देवभूमि उत्तराखंड के लिए करने जा रहा है।जिसको मूर्तरूप आने वाले इन्वेस्टर समिट में प्रदान किया जा सकता है।

आंचल को नए सिरे से विकसित किया जाएगा, इसमें कई नए प्लांट भी लगेंगे

अमूल की तर्ज पर यहां पर भी अमूल के सौजन्य से कई इलाकों में उत्तराखंड की दुग्ध सहकारिता समिति आंचल को नए सिरे से विकसित किया जाएगा।इसमें कई नए प्लांट भी लगेंगे।जिससे सूबे में रोजगार के नए अवसर भी आएंगे।इसके साथ अभी तक दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में यहां पर दुध के बने उत्पाद के लिए कोई बड़ा ब्रॉंड नेम या बाजार नहीं था।

अब अमूल के साथ समझौता होने के बाद उसके ब्रॉंड के साथ यहां की दुग्ध सहकारिता के ब्रांड आंचल का भी प्रमोशन होगा

अगर कहें तो मार्केटिंग के लिए कोई प्लान नहीं था।इसके साथ ही यहां पर होने वाले दुध से केवल 20 फीसदी ही दूसरे उत्पाद तैयार होते थे।लेकिन अब अमूल के साथ समझौता होने के बाद उसके ब्रॉंड के साथ यहां की दुग्ध सहकारिता के ब्रॉंड ऑंचल का भी प्रमोशन होगा।इसके अलावा दूसरे उत्पाद भी बनेंगे।जिससे आय के साधन भी बढने के साथ दुग्ध सहकारिता समितियों की माली हालत भी सुधरेगी।

अमूल जो कि विश्व में दुग्ध उत्पादों को लेकर एक बड़ा नाम है

अमूल जो कि विश्व में दुग्ध उत्पादों को लेकर एक बड़ा नाम है।इसके वर्क कल्चर और मार्केटिंग ने विश्व के सभी क्षेत्रों तक अपनी पहचान बनाई है।अब इस अमूल ने साथ आने वाले दिनों में उत्तराखंड की सहकारिता समिति के बीच सीसीपी मूड में समझौता होने के बाद यहां पर दुग्ध क्रांति के क्षेत्र में एक नया इतिहास रचा जाएगा। जिसकी परिकल्पना सहकारिता सचिव आर मिनाक्षी सुन्दरम ने की है।

इसे भी पढें- विश्व दुग्ध दिवस 2018: उत्तराखंड के पशुपालन सचिव आर मिनाक्षी सुंदरम को मिला अवॉर्ड

ये समझौता सहकारिता सचिव आर मिनाक्षी सुन्दरम के एक अद्भुत प्रयास है

सहकारिता समितियों के बीच होने वाला ये समझौता सहकारिता सचिव आर मिनाक्षी सुन्दरम के एक अद्भुत प्रयास है।जिससे यहां के दुग्ध उत्पादकों के लिए एक बड़े विकास का द्वारा खुलेगा।इसके साथ ही नए प्लांटों के लगने से यहां पर रोजगार के अवसर बढ़ेगे।किसानों में दुग्ध उत्पादन को लेकर नया चार्म भी आएगा।जो कि सीधे तौर पर उनकी आय को बढ़ाने वाला होगा अब देखाना है कि अक्टूबर में होने वाले इन्वेस्टर समिट के पहले सहकारिता विभाग इस प्रस्ताव के जरिए अमूल से सूबे में कितना लाभ दिला सकेगा।

अजस्र पीयूष