featured उत्तराखंड

इस साल एक हफ्ते तक रहेगी उत्तराखंड के जन्मदिन की धूम, 3 नवंबर से आरंभ हो जाएंगे कार्यक्रम

cm trivendra rawat 1 इस साल एक हफ्ते तक रहेगी उत्तराखंड के जन्मदिन की धूम, 3 नवंबर से आरंभ हो जाएंगे कार्यक्रम

देहरादून। देश सरकार राज्य के 19वें स्थापना दिवस को इस बार यादगार बनाने जा रही है। स्थापना दिवस के कार्यक्रम तीन नवंबर से ही आरंभ हो जाएंगे। सप्ताह भर चलने वाले ये कार्यक्रम राजधानी देहरादून से लेकर मसूरी, टिहरी, अल्मोड़ा, श्रीनगर में भी आयोजित होंगे।अलग-अलग थीम पर होने वाले ये कार्यक्रम उत्तराखंड के सैनिकों, महिलाओं, युवाओं पर केंद्रित होंगे, जिनमें राज्य की लोक, परंपरा और संस्कृति की स्पष्ट झलक दिखाई देगी। इन कार्यक्रमों के जरिये सरकार रिवर्स पलायन का संदेश भी देगी।

बता दें कि  इन कार्यक्रमों में केंद्रीय मंत्री, अलग-अलग क्षेत्रों में नाम कमाने वाले प्रवासी उत्तराखंडी और अलग-अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञ शिरकत करेंगे। सरकार हर साल नौ नवंबर को राज्य स्थापना दिवस मनाती है। लेकिन त्रिवेंद्र सरकार इस बार स्थापना दिवस के जरिये देश भर में निवास कर रहे प्रवासी उत्तराखंडियों को भी रिवर्स पलायन का संदेश देना चाहती है।

इसके लिए अलग-अलग विषयों पर सम्मेलनों का आयोजन होने जा रहा है। आयोजनों की शुरुआत तीन नवंबर को टिहरी में ‘आवा अपुण घोर’ (आइये अपने घर) से करेगी। इसके बाद चार नवंबर को राजधानी देहरादून में प्रदेश सरकार और अमर उजाला संयुक्त रूप से ‘मेरा सैनिक मेरा अभिमान’ कार्यक्रम का आयोजन करेंगे।

छह नवंबर को प्रदेश सरकार और अमर उजाला संयुक्त रूप से श्रीनगर गढ़वाल में महिला सम्मेलन का आयोजन करेंगे। सात नवंबर को अल्मोड़ा में युवाओं पर केंद्रित ‘मेरा युवा मेरी शान’ सम्मेलन का आयोजन होगा। आठ नवंबर को पर्यटन नगरी मसूरी में फिल्मी हस्तियां जुटेंगी। प्रदेश में फिल्म उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए फिल्म कान्क्लेव का आयोजन होगा। नौ नवंबर को प्रदेश सरकार स्थापना दिवस का मुख्य समारोह देहरादून में आयोजित करेगी।

तिथि   कार्यक्रम   स्थान

03 नवंबर   आवा अपुण घोर               टिहरी

04 नवंबर     मेरा सैनिक मेरा अभिमान     देहरादून

06 नवंबर    महिला सम्मेलन   श्रीनगर

07 नवंबर    मेरा युवा मेरी शान   अल्मोड़ा

08 नवंबर    फिल्म कान्क्लेव                     मसूरी

09 नवंबर    मुख्य समारोह                     देहरादून

उत्तराखंड की स्थापना जश्न इस बार अलग अंदाज मनाया जाएगा। मंथन, मनन और समर्पण के तीन मूल मंत्रों के साथ उत्तराखंड को विकास की ऊंचाई तक पहुंचाने के लिए रोड मैप तैयार करने की कोशिश भी इस बार स्थापना दिवस समारोहों के तहत की जाएगी। हमारी कोशिश है कि लोग अपने छूटे हुए घरों और खेत खलिहानों को सहेजने के लिए वापस लौटें। ये कार्यक्रम इस दिशा में मील का पत्थर साबित होंगे।

Related posts

कोरोना काल में होम्‍योपैथिक दवा लेने वाले ध्‍यान से पढ़ लें ये खबर  

Shailendra Singh

MSME के लिए 6 बड़े कदम उठाए गए, 2 लाख MSME को फायदा मिलेगा: निर्मला सीतारमण

Rani Naqvi

परिवर्तन यात्रा के जरिए भाजपा का कांग्रेस पर हमला जारी

piyush shukla