featured उत्तराखंड राज्य

उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक की क्या होगी छुट्टी? जानिए किसको मिल सकता है पद

मदन कौशिक उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक की क्या होगी छुट्टी? जानिए किसको मिल सकता है पद

उत्तराखंड में पुष्कर सिंह धामी की सरकार का गठन हो चुका है। धामी सरकार के नए मंत्रिमंडल में आठ चेहरे शामिल हुए हैं। इस बार मंत्रिमंडल में जिन चेहरों को शामिल नहीं किया गया है। उनमें से सबसे अधिक चर्चा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन कौशिक की है। बता दें नई कैबिनेट के गठन से पहले मदन मोहन कौशिक की ओर से धामी टीम में शामिल होने का दावा किया जा रहा था। 

हालांकि ऐसा नहीं हुआ ऐसे में अटकलें तेज हो गई हैं कि भाजपा प्रदेश संगठन के विभिन्न पदों पर फेरबदल कर सकती है। तमाम कवायत के बाद अब ऐसा लगने लगा है कि भाजपा शीर्ष नेतृत्व उत्तराखंड भाजपा की कमान किसी नए व्यक्ति को सौंप सकती है। 

भाजपा के पास प्रदेश स्तर पर ना तो कार्यकर्ताओं की कमी है और ना ही अनुभवी नेताओं की कमी है। ऐसे में खबर है कि भाजपा की ओर से ऐसे व्यक्ति को तवज्जो अधिक दिया जा सकता है। जो थोड़ा युवा भी हो और उसे संगठन में काम करने का अनुभव हो।

उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष को लेकर इन दो नामों पर चर्चा

आपको बता दें भाजपा संगठन में इन दिनों दो नामों को लेकर चर्चा है। जिसमें पहला नाम महेंद्र कुमार भट्ट है। बता दे पिछली विधानसभा में महेंद्र भट्ट बद्रीनाथ सीट से प्रतिनिधित्व किया करते थे। हालांकि इस बार बेहद कम अंतर से चुनाव में हार गए।

महेंद्र कुमार भट्ट संगठन के पुराने नेता है। भारतीय जनता पार्टी के उत्तराखंड युवा संगठन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। वही दूसरा नाम विनोद चमोली का है। बता दे विनोद चमोली का नाम इससे पहले भी कई बार सामने आ चुका है। मुख्यमंत्री पद को लेकर भी विनोद चमोली का नाम सबसे आगे था। फिलहाल यह साफ नहीं है इन दोनों नामों में से आखिर किस पर मुहार लगेगी।  

आखिर क्यों अध्यक्ष पद से मदन कौशिक की हो सकती है छुट्टी

खबर है कि भाजपा की ओर से मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को किनारे लगाया जा सकता है। इसके बाद वह भाजपा में केवल एक विधायक के रूप में सक्रिय रह जाएंगे। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि धामी मंत्रिमंडल में अभी भी 3 पद खाली हैं। ऐसे में अगर मदन कौशिक को अध्यक्ष पद से हटाया जाता है। तो उन्हें मंत्रिमंडल में कोई जगह मिल सकती हैं।

एक समूह का कहना है धामी कैबिनेट में हरिद्वार के प्रतिनिधित्व को लेकर कैबिनेट में मदन मोहन कौशिक को शामिल किया जा सकता है। वहीं कुछ अन्य नेताओं का कहना है कि भाजपा के पूर्व विधायकों की तरह मदन कौशिक की भी पारी समाप्त हो चुकी है और अब नए लोगों को मौका दिया जाएगा।

अध्यक्ष पद से मदन कौशिक की छुट्टी को लेकर सबसे बड़ा कारण हरिद्वार से भाजपा के अनुरूप विधानसभा चुनाव में परिणामों का ना मिलना है। ऐसे में संभावना यह भी है कि अगर किसी को प्रतिनिधित्व दीया जाता है तो संगठन के किसी व्यक्ति को इस बड़ी जिम्मेदारी को सौंपा जा सकता है।

कुछ लोगों का कहना है कि अगर मदन कौशिक को अध्यक्ष पद से हटाया जाता है। तो वह केंद्र सरकार पर दबाव बना सकते हैं। लेकिन जिस प्रकार पुष्कर सिंह धामी की नई सरकार का गठन किया गया है। ऐसे में नहीं लगता की मदन कौशिक की ज्यादा चलने वाली है।

 

Related posts

चुनावी जंग में उतरेंगे अशोक गहलोत और सचिन पायलट,राहुल ने दी हरी झंडी

mahesh yadav

WhatsApp को अब यूजर्स आसानी से बता पाएंगे ऐप की कमी

Samar Khan

कोरोना पॉजिटिव हुये एम वेंकैया नायडू, ट्वीट कर दी जानकारी

Trinath Mishra