उत्तराखंड

भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

Screenshot 1394 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

वर्ष 1975 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को मान्यता प्राप्त हुई । संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस रूप में मनाने की शुरुआत की।

यह भी पढ़े

 

महिला मार्च कर कांग्रेस ने दिया नारी सशक्तिकरण का संदेश, प्रियंका गांधी ने किया नेतृत्व, सड़कों पर उमड़ा महिलाओं का जनसैलाब

 

2021 में यह विश्व भर में लगभग सभी देशों में मनाया जाने लगा। भारत देश में भी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विभिन्न स्थानों पर विभिन्न तरीके से महिला दिवस मनाया जाता है । महिला दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं के प्रति सम्मान को बराबरी का दर्जा दिलाए जाना है ।

Screenshot 1394 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

आपको बता दें कि भारतवर्ष में भारत की संस्कृति मैं नारी को पूजनीय माना जाता है । नारी को पूजा जाता है । जहां देवता निवास करते हैं । हमारे समाज में महिलाएं अपने जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला की एक अहम भूमिका निभाती है । नारी के कई रूप है जहां नारी पत्नी, बहन, बेटी, दोस्त एवं मां बन कर सारे रिश्ते निभाती है । आज के दौर में महिलाएं भी कदम से कदम मिलाकर पुरुषों के साथ खड़ी है और हर कार्य बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती हैं और आगे निरंतर बढ़ती जा रही है।

Screenshot 1395 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

वही प्राचार्य डॉ दीपिका गुड़िया आत्रे कहा कि बहुत अंतर आ चुका है । पहले और अब के महिलाओं और युवतियों की स्थिति में अब काफी द्वार खुल गए हैं स्वयं को साबित और प्रमाणित कर अपनी प्रतिभा, हुनर और गुणों को सामने लाकर साबित कर सकती हैं । आज के दौर में महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए हौसला ,साहस ओर कुछ कर गुजरने की इच्छा शक्ति की जरूरत है और उन्होंने कहा कि आज मुझे खुशी होती है । महिलाओं और बेटियों के प्रति समाज की सोच सकारात्मक रूप में बदल रही है महिलाएं निरंतर आगे बढ़ रही हैं और यह अच्छा संकेत है उन्होंने कहा कि अभी भी समाज में ऐसे लोग पनप रहे हैं।

 

Screenshot 1396 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

जिनकी सोच अच्छी नहीं है। लेकिन जिस तरीके से महिलाओं के हिम्मत और साहस को देश में बढ़ावा मिला है उनको भी अपनी सोच बदल देनी चाहिए और महिलाओं बेटियों को आगे बढ़ने के लिए सहयोग करना चाहिए।

Screenshot 1397 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

मेकअप आर्टिस्ट अनिता सक्सेना ने कहा कि जिस तरीके से समाज में महिलाएं और पुरुषों का सपना होता है कि मैं आगे बढे और अपना नाम रोशन करे। इसी सपने के साथ मेरे भी सपना था कि मैं मेकअप आर्टिस्ट बनूं और मैंने अपने सपने को साकार करते हुए मेरी प्रोफेशनल लाइफ बन चुकी है ।

Screenshot 1398 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

 

अब मुझे जगह-जगह जाकर आपके अपने काम के प्रति लगाव और जीवन शैली चल रही है। लेकिन समाज में कुछ ऐसी सोच भी है कि अगर हम अपने काम के प्रति दिन रात मेहनत कर रहे हैं तो लोगों की सोच यह रहती है कि महिला होकर रात को 8 बजे या 10 बजे कहां से आ रही है। लोगों को अपनी सोच बदल कर महिलाओं का साथ देना चाहिए और उन को आगे बढ़ाने का मौका देना चाहिए ।

Screenshot 1399 भारत की संस्कृति में की जाती है नारी की पूजा, जन्म से लेकर मृत्यु तक महिला निभाती है अहम भूमिका

उन्होंने कहा कि हम मेकअप आर्टिस्ट रूप में काम करती हूं और मुझे एक शहर से दूसरे शहर में जाकर काम करना पड़ता है । जिससे उस भी काफी परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है । लेकिन मुझे अच्छा लगता है कि मैं अपने पैरों पर खड़े हो गई हूं और मैं एक सक्षम महिला हूं मुझे खुशी होती है कि जो मैंने सपना देखा था वह साबित कर दिया है ।

Related posts

उत्तराखंड में एक नवंबर से खुलेंगे सभी स्कूल, मंत्रिमंडल ने लगाई मुहर

Samar Khan

दोस्ती करने से मना किया तो युवक ने मित्रों के साथ नाबालिग छात्रा से किया दुष्कर्म

mahesh yadav

मुख्य सचिव ने इन्वेस्टर समिट में हुए MoU के फॉलोअप की समीक्षा बैठक की

mahesh yadav