ज्ञान कुंभ का आयोजन रहा सफल, उच्च शिक्षा में नए आयाम गढ़ेगा उत्तराखंड

उत्तराखंडः सूबे में बीते दिनों ज्ञान कुंभ का आयोजन हरिद्वार में हुआ था।इस आयोजन में देश के शिक्षाविदों के साथ शोध छात्रों ने शिक्षा में स्तर को वृहद और व्यापक तौर पर बनाने के लिए कई चरणों में चर्चा की।इस ज्ञान कुंभ की समाप्ति के बाद खुद उच्च शिक्षा राज्य मंत्री ने इस कार्यक्रम को सुखद बताया।सूबे में बीतों दिनों शिक्षा जगत के एक बड़े समारोह का आयोजन हरिद्वार में किया गया।

 

ज्ञान कुंभ का आयोजन रहा सफल, उच्च शिक्षा में नए आयाम गढ़ेगा उत्तराखंड
ज्ञान कुंभ का आयोजन रहा सफल, उच्च शिक्षा में नए आयाम गढ़ेगा उत्तराखंड

इसे भी पढे़ःउत्तराखंडः केदारघाटी का पुनर्निर्माण कार्य लगभग पूरा हुआ

आपको बता दें कि कार्यक्रम का उद्घाटन देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वयं आकर किया। उच्चतर शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन ‘‘ज्ञान कुम्भ’’ में देश के 18 राज्यों से शिक्षा विद् और शोधछात्र आए जिन्होंने अपने विचार साझा किएसूबे के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत का मानना है कि देवभूमि में आयोजित ये ज्ञान कुम्भ देश के उच्च शिक्षा जगत में मील का पत्थर साबित होगा।देवभूमि अध्यात्मिक छवि के साथ शिक्षा के क्षेत्र में अलग पहचान है ये ज्ञान कुंभ सूबे के विशिष्ट पहचान को निखारेगा।

इसे भी पढ़े-उत्तराखंडः निकाय चुनाव में बागी नेता बने पार्टियों के लिए राह का रोड़ा.

इस मौके पर उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, नागालैंड के राज्पाल पीबी आचार्य, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, स्वामी रामदेव, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के साथ दूसरे राज्यों के शिक्षा मंत्री, विश्वविद्यालयों के कुलपति, शिक्षाविद व विद्यार्थी मौजूद थे।कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने सम्बोधन में कहा कि देश में सदियों से धार्मिक कुम्भ की परम्परा रही है। हरिद्वार, कुम्भ के आयोजन की पावन भूमि रही है। उत्तराखंड के उच्च शिक्षा विभाग की ओर से आयोजित ज्ञान कुम्भ को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सार्थक पहल है।

ज्ञान कुम्भ राष्ट्रीय शैक्षिक परिदृश्य के लिए हितकारी होगा

उत्तराखंड की राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने कहा कि कुम्भ नगरी हरिद्वार में ज्ञान कुम्भ का आयोजन निश्चित रूप से राष्ट्रीय शैक्षिक परिदृश्य के लिए हितकारी होगा। इस ज्ञानकुम्भ के आयोजन का मुख्य उद्देश्य आधुनिक चुनौतियों और आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उच्च शिक्षा के स्तर में सुधार लाना है।वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि ज्ञानकुम्भ का आयोजन उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक ऐतिहासक पहल है।

महेश कुमार यादव