Fatehpur district, liquor, two killed, excise department, poisonous liquor
फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में शुक्रवार को दो लोगों की शराब पीने के बाद मौत होने से हड़कंप मच गया। आनन-फानन में मौके पर अधिकारियों का दौड़-भाग से लेकर काफी तामझाम हुआ लेकिन पुलिस-आबकारी की टीम अभी तक आरोपी को गिरफ्तार नही कर पायी है।
पोस्टमार्टम के बाद दोनों शवों के आते ही गांव में मातम छा गया। तमाम दावों के बीच जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, पुलिस अधीक्षक सतपाल आंतिल और आबकारी टीम ने दौरा कर विधिक कार्यवाही के आदेश दिए। हालांकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में शराब पीने के कारण मौत से पुष्टि नहीं हुयी है।
उल्लेखनीय है कि स्लैब पड़ने के बाद 11 श्रमिकों ने देसी शराब पी थी। इसके बाद कई लोग बीमार हुए जिनका उपचार जिला अस्पताल में किया जा रहा था। इस दौरान दो लोगों की मौत हो गयी जबकि दो अन्य का उपचार अभी भी जारी है।
Fatehpur district, liquor, two killed, excise department, poisonous liquor
जिले के गाजीपुर थाना क्षेत्र के भौली गांव में बीते बुधवार को कामता के घर में स्लैब पड़ रही थी। जिसमें 11 श्रमिक काम कर रहे थे। जब स्लैब का काम पूरा हो गया तो भवन स्वामी कामता ने सभी को भोजन और शराब की पार्टी दी। इसके लिए उन्होंने भोला को रुपये दिए और शराब लाने भेजा। भोला शराब लेकर आया और सभी श्रमिकों ने शराब पी। इसके बाद भोला और मोती सहित अन्य की तबियत खराब हुयी तो आनन-फानन में एंबुलेंस के जरिए जिला अस्पताल भेजा गया। जहां पर शुक्रवार को भोला और मोती की उपचार के दौरान मौत हो गयी।
ग्रामीणों के अनुसार शराब पीने के दौरान मृतक का भाई शत्रोहन भी थे उनके साथ दूसरे अन्य श्रमिक कन्ना आदि भी थे लेकिन शराब से भोला और मोती की मौत हुयी। जानकारी के अनुसार कामता और भोला दोनों का घर बन रहा था। भोला के यहां भी स्लैब पड़नी थी उसने कामता के घर में काम समाप्त होने के बाद वह अपने घर में काम शुरू करने की योजना बना रहा था लेकिन उसके पहले ही यह घटना हो गयी।
बिजली की दुकान में बिक रही देशी शराब
जिस दुकान से भोला शराब लेकर गया वह देशी शराब की दुकान नहीं थी। बल्कि इलेक्ट्रानिक की दुकान थी। जिसे संतोष नाम का दुकानदार चंद पैसों के लालच में अवैध देशी शराब बेच रहा था। ऐसे में यह बेहद ही गंभीर मामला है कि आखिर बिजली की दुकान में शराब कैसे बिक रही थी। मामले पर गाजीपुर पुलिस और आबकारी की टीम आरोपी संतोष की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रहीं हैं। फिलहाल आरोपी संतोष पुलिस की गिरफ्त से कोसों दूर है।
“मेरे और पुलिस अधीक्षक के द्वारा भौली गांव का संयुक्त निरीक्षण किया गया है। जिसमें पता चला कि भोजन के दौरान मदिरा सेवन किया गया और फिर दो लोगों की मौत हुई। दोनों मृतकों का पोस्टमार्टम कराया गया है। नियमानुसार आगे की कार्यवाही की जा रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी दंडात्मक कार्यवाही होगी।” 
अपूर्वा दुबे
जिलाधिकारी, फतेहपुर।
“गाजीपुर थाना क्षेत्र में दो लोगों की मौत होने की जानकारी मिली थी। जिस पर दोनों मृतकों का पोस्टमॉर्टम कराया गया है लेकिन किसी में भी शराब से मौत होने की पुष्टि नहीं हुयी है। ऐसे में शराब पीने से मौत हुयी है यह सही नहीं है। हालांकि जिस दुकान से शराब ली गयी थी उसकी तलाश की जा रही है।”
संतोष कुमार तिवारी
जिला आबकारी अधिकारी, फतेहपुर।

बरेली: ग्लूकोमा की जागरुकता के लिए निकाली गई रैली, नुक्कड़ नाटक का हुआ मंचन

Previous article

यूपी पंचायत चुनाव: जारी नहीं होगी लिस्ट, हाईकोर्ट ने लगाई रोक

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.