September 25, 2021 9:21 am
featured यूपी

मोर्चे में बड़ी दरार: AIMIM प्रवक्ता पर बरसे सुभासपा अध्‍यक्ष, बोले- राजभर को समझने में…

मोर्चे में बड़ी दरार: AIMIM प्रवक्ता पर बरसे सुभासपा अध्‍यक्ष, बोले- राजभर को समझने में...

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआइएमआइएम) के बीच बड़ी दरार पड़ गई है। सुभासपा अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर को भाजपा के सामने मोर्चा खोलने पर असदुद्दीन ओवैसी का भी सहयोग मिल रहा था। लेकिन अब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष से मुलाकात करने के बाद AIMIM के प्रवक्ता आसिम वकार ने सुभासपा से गठबंधन तोड़ने के संकेत दे दिए। हालांकि, राजभर ने इस पर पलटवार करते हुए उन्‍हीं पर निशाना साधा है।

राजभर को समझने में लगेंगे 10 साल

ओपी राजभर ने कहा कि, यह एआइएमआइएम के प्रवक्ता का बयान है, राष्ट्रीय अध्यक्ष का नहीं। उनको सही जानकारी नहीं है कि ओम प्रकाश राजभर क्या चीज है। राजभर क्या करना चाहते हैं, वह कहां गठबंधन कर रहे हैं ये एआइएमआइएम के प्रवक्ता को समझने में 10 साल और लगेंगे, तब जाकर वो ओमप्रकाश राजभर को पढ़ पाएंगे।

जो अलग होना चाहे अलग हो जाए: राजभर

राजभर ने कहा कि, आज उन्होंने यह बयान दिया है, कल वह पछताएंगे कि हमने गलती कर दी है, ओम प्रकाश राजभर अपनी जगह सही था। उन्‍होंने कहा कि, यह शिष्‍टाचार भेंट थी। व्यक्तिगत संबंध अलग चीज है और राजनीति अलग। वकार अपनी गलती स्वीकार करेंगे। उनका बयान उनको ही मुबारक हो। उन्‍होंने ये भी कहा कि, जो अलग होना चाहे अलग हो जाए, किसी के अलग होने से कोई आपत्ति नहीं। राजभर BJP को हराने के लिए राजभर संघर्ष करेगा और 2022 में हम BJP को मिटा कर रहेंगे।

भाजपा की बू आने वाले बयान पर सुभासपा संस्‍थापक ने कहा कि, लोकसभा में भाजपा, कांग्रेस और सभी दलों के नेता एक कैंटीन में बैठकर एक साथ चाय पीते हैं। विधानसभा में भी सारे दल के नेता एक ही लॉबी में बैठकर चाय नाश्ता करते हैं तब तो किसी पार्टी की बू नहीं आती है।

भाजपा के खिलाफ ही लड़ेंगे चुनाव: राजभर

भाजपा से गठबंधन के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि, मैं गारंटी के साथ कह रहा हूं कि 2017 में हमने भाजपा के साथ गठबंधन किया था, लेकिन जिन मुद्दों के साथ हम गठबंधन में शामिल हुए थे वह पूरे नहीं हुए, जिसके चलते हम गठबंधन से अलग हुए और अब 2022 में भारतीय समाज पार्टी, ओमप्रकाश राजभर और भागीदारी संकल्प मोर्चा यह चुनाव लड़ेगा और भाजपा के साथ पहले से जो 36 का आंकड़ा है, वो आज भी है और आगे भी रहेगा।

वहीं, कौम को धोखा देने के बयान पर ओपी राजभर ने कहा कि यह तो वक्त ही बताएगा कि कौन कौम को धोखा दे रहा है कौन कौम के साथ है। उन्होंने निशाना साधते हुए कहा कि, वो पहले जिस दल में थे, तब उन्होंने नहीं सोचा कि वह क्या कर रहे हैं, उन्हें क्या करना चाहिए और अब वह सोच रहे हैं कि कौन कौम को धोखा दे रहा है। ऐसे में मैं यही कहना चाहूंगा कि वक्त ही बताएगा कि कौन कौम के साथ है और कौन कौम को धोखा दे रहा है।

ये था AIMIM प्रवक्‍ता का बयान

इससे पहले AIMIM प्रवक्‍ता आसिम वकार की तरफ से कहा गया कि, ओपी राजभर से भारतीय जनता पार्टी की बू आती है। हमारी पार्टी के नेता और हमारा अपमान उन लोगों ने किया है। इतना ही नहीं, वकार ने कहा कि अपनी कौम के साथ हम धोखा नहीं होने देंगे। संयुक्त भागीदारी मोर्चा से उन्होंने AIMIM के अलग होने का भी ऐलान किया।

क्‍यों बिगड़ी बात?

दरअसल, यह पूरा मामला ओमप्रकाश राजभर और स्वतंत्र देव सिंह के बीच मुलाकात के बाद बिगड़ गया। ओवैसी की पार्टी जहां यूपी में 100 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। वहीं, ओमप्रकाश राजभर भी कई क्षेत्रों में अपनी पकड़ रखते हैं। मगर, इस मुलाकात और एआइएमआइएम प्रवक्‍ता के नए प्रहार के बाद स्थिति बिगड़ती हुई दिखाई दे रही है।

Related posts

गणतंत्र दिवस पर भारत नहीं आएंगे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

mahesh yadav

Breaking News

टिकट कटने से सपा में नाराज लोगों का पलायन जारी

piyush shukla