शाहजहांपुर: भाजपा विधायक ने कहा- ‘कसम खाओ तुमने हमें वोट दिया था, तभी बिजली मिलेगी’

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी का प्रकोप है। ऐसे में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि, प्रदेश में किसी भी दशा में बिजली कटौती ना की जाए। साथ ही रात में बिजली कटौती पर रोक लगाई जाए। वहीं, शाहजहांपुर के कटरा से भाजपा विधायक वीर विक्रम सिंह का अजीबोगरीब बयान सामने आया है।

दरअसल, विधायक वीर विक्रम सिंह अपने गांव नगला ब्राहिम में वन महोत्सव कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। इस दौरान यहां ग्रामीणों ने उनसे कहा कि, विधायक जी हमारे गांव में अभी तक बिजली नहीं आई है। इस पर विधायक ने कहा कि, इस गांव में मुझे वोट नहीं मिलता।

इस गांव से हमें वोट नहीं मिला- बीजेपी विधायक

बीजेपी विधायक ने कहा कि, मैंने आपके क्षेत्र में पर्याप्त समय भी दिया और काम भी किया, लेकिन फिर भी हमें इस गांव से हमें वोट नहीं मिला, यह आप भी जानते हैं। उन्‍होंने कहा कि, इसके बावजूद मुझसे जो भी हो सकता था, मैंने वो सब काम किया। मेरे पास जो भी आया, मैंने उसकी हर संभव उनकी की कोशिश की।

खसम खा लो, हम लाइट दे देंगे: विधायक

इसके बाद ग्रामीणों ने फिर कहा कि, हां, लेकिन बिजली अभी तक नहीं आई। इसके जवाब में विधायक वीर विक्रम सिंह ने कहा कि, यह बताओ कि हमें आपके यहां से कितनी वोटें मिलीं। तुम लोग गंगा मां की कसम खाकर बताओ कि कितने वोटें दी हैं हमें। उन्‍होंने कहा कि, चलो अच्छा तुम कसम खा लो कि तुमने हमें वोट दिया है, हम लाइट तुम्हें दे देंगे! अपने लड़के की तुम कसम खा लो तो आज ही हम तुम्हारे यहां लाइट लगवा देंगे!

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

कटरा विधायक ने आगे कहा कि, आप हमें किसी भी काम में बेवकूफ बनाने की कोशिश न करें। चार बार विधायक हमारे पिताजी रहे हैं और हम विधायक हैं अभी। ऐसे ही थोड़े विधायक बने हैं हम, हमारे पास बूथ वार आंकड़ा होता है कि किसने हमें कितना वोट दिया और किसने नहीं दिया! वहीं, भाजपा विधायक वीर विक्रम सिंह के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जो तेजी से लोगों के बीच फैल रहा है और सुर्खियां बटोर रहा है।

सपा का नया चुनावी गाना रिलीज…सूपड़ा साफ़ कर देगी

Previous article

यूपी न्यूज: बिहार के सीएम को पसंद नहीं आया जनसंख्या नियंत्रण का ड्राफ्ट, कहा…

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured