featured यूपी

फतेहपुर: जहां होती हैं समस्‍याएं दूर, फरियादी वहीं प्‍यासे रहने को मजबूर

फतेहपुर: जहां होती हैं समस्‍याएं दूर, फरियादी वहीं प्‍यासे रहने को मजबूर

फतेहपुर: उत्तर प्रदेश पुलिस के रीढ़ की हड्डी मानी जाने वाली पुलिस चौकियों में पीने के पानी की बड़ी समस्या है। यह समस्या भी दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में नहीं बल्कि मुख्यालय में मौजूद तमाम पुलिस चौकी में ऐसी बदहाली देखी जा सकती है। ऐसे में ड्यूटी पर तैनात स्टाफ अपने लिए खरीद कर पानी ले रहे हैं, लेकिन चौकियों में आने वाले पीड़ितों को पीने का पानी न मिलने से समस्या होती है। मजबूरी में पीड़ितों को भी खरीदकर पानी पीना पड़ता है। इस तरह उनका अनावश्यक खर्च दुकानदार की गुल्लक में जाता है।

नए एसपी करते हैं निरीक्षण

जब भी नए पुलिस अधीक्षक जिले में आते हैं तो वह जिले भर के सभी थानों में जाकर औचक निरीक्षण करते हैं। यहां पर हेल्प डेस्क, रजिस्टर, 10, आठ और चार से लेकर आगंतुक रजिस्टर, मालखाना, शस्त्रागार, मेस, पीने की व्यवस्था सहित तमाम चीजों का बारीकी से निरीक्षण करते हैं।

आइपीएस सतपाल आंतिल के जाने के बाद जिला पुलिस की कमान राजेश कुमार सिंह को मिली तो उन्होंने भी सभी थानों का औचक निरीक्षण करना शुरू कर दिया। जिसमें अब तक कोतवाली, थरियांव, खागा, धाता, किशनपुर, खखरेरू, हुसैनगंज, असोथर, ललौली, गाजीपुर, मलवां थानों का निरीक्षण कर चुके हैं। पुलिस अधीक्षक को यहां पर लगभग चीजें दुरुस्त मिलीं।

आबूनगर पुलिस चौकी पर पानी की समस्‍या  

वहीं, अब जरा जिले की पुलिस चौकियों के हाल भी सुन लीजिए। शहर स्थित आबूनगर काफी पुरानी पुलिस चौकी है। यहां का भवन तो जर्जर हो ही रहा है साथ ही साफ-सफाई से लेकर पीने के पानी की बड़ी समस्या है। इसी तरह जिला अस्पताल प्रशासन से कमरा लेकर पुलिस चौकी तो खोल दी गयी लेकिन जीवनदायिनी पीने के पानी की व्यवस्था नहीं की गई। ऐसे में यहां पर तैनात उप निरीक्षक और अन्य पुलिसकर्मी अपने लिए खरीदकर पानी की व्यवस्था तो कर लेते हैं लेकिन यहां आने वाले पीड़ितों को पानी नहीं मिल पाता है। मजबूरी में आसपास की दुकानों से लोगों को खरीदकर पानी पीना पड़ रहा है।

ऐसे में पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह को थानों के साथ पुलिस चौकियों का भ्रमण कर उनकी हकीकत को समझना चाहिए, जिससे जीवनदायिनी जल जैसी मूलभूत व्यवस्था से पुलिस चौकी बदहाल न रहें। साथ ही पुलिस कप्तान के निरीक्षण से चौकी प्रभारियों में भी उत्साह का संचार होता है और उनकी चौकियों की सामान्य सी समस्याएं भी दूर होती रहती हैं। इससे वह फतेहपुर और उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए अपना और भी बेहतर योगदान दे पाते हैं।

“पुलिस चौकियां हमारे लिए थानों से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। यहां पर जो भी समस्या आ रही हैं, उन सभी को जल्द से जल्द दूर किया जाएगा। सभी को शुद्ध पेयजल मिलना यह उनका अधिकार है। ऐसे सभी स्थानों से रिपोर्ट मांगी जा रही है।”

राजेश कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक, फतेहपुर

Related posts

सरकार ने 5 फ्लाईओवरों पर 350 करोड़ रुपये बचाए : केजरीवाल

bharatkhabar

जालौर: लाॅकडाउन के दौरान दो बच्चों ने लिख दी 2100 पन्नों की रामायण

Aman Sharma

अखिलेश को लगा दूसरा झटका, पूर्व सपा MLA ने थामा शिवपाल का हाथ

mahesh yadav