December 5, 2022 9:47 am
यूपी

फतेहपुर: गंगा में डूबे नीतेश का नहीं चला पता, सर्च अभियान बंद

फतेहपुर: गंगा में डूबे नीतेश का नहीं चला पता, सर्च अभियान बंद

फतेहपुर: मलवां थाना क्षेत्र के आदमपुर गंगा घाट में स्नान करते समय डूबे दोस्तों में एक का पता बुधवार तक नहीं चल पाया है। साथ ही लगातार गंगा का जलस्तर बढ़ने से पीएसी जवानों को कई बार सर्च ऑपरेशन रोकना भी पड़ा। घटनास्थल से करीब 35 किलोमीटर तक के क्षेत्र की पड़ताल करने के बाद भी नीतेश का कोई पता नहीं चला। मामले पर नायब तहसीलदार विकास पाण्डेय ने बताया कि कड़ी मेहनत के बाद भी नीतेश की जानकारी नहीं हो पाई है। स्थितियों को देखते हुए सर्च अभियान बंद कर दिया गया है। सभी टीमें मौके से लौट चुकी हैं।

सोमवार को डूबे थे नीतेश-सत्‍यम

सोमवार को सावन के पहले दिन जगन्नाथ अल्लीपुर के रहने वाले नीतेश और संजय उर्फ सत्यम गंगा स्नान को गए थे। तभी अचानक पानी बढ़ जाने से दोनों दोस्त नदी में डूबने लगे। आसपास स्नान कर रहे लोगों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। घाट पर मौजूद गोताखोरों और नाविकों ने भी प्रयास किया, लेकिन कुछ भी हाथ न लगा। सूचना पर पुलिस-प्रशासन मौके पर पहुंचा और लखनऊ से एसडीआरएफ टीम को बुलाया गया।

सोमवार से बुधवार तक एसडीआरएफ की 16 सदस्यीय और पीएसी, स्थानीय पुलिस प्रशासन की 21 सदस्यीय टीम सहित कुल 37 सदस्यों ने मिलकर 35 किलोमीटर से अधिक क्षेत्र तक सर्च अभियान चलाया।

मंगलवार को मिला सत्‍यम का शव

इस सर्च अभियान में मंगलवार को घटनास्थल से करीब आठ किलोमीटर दूर खुसरूपुर गांव में सत्यम का शव मिला था। इसके बाद एसडीआरएफ टीम लखनऊ लौट गई थी। इसी आधार पर असनी पुल तक बुधवार को 16 सदस्यीय टीम ने चार नाव के साथ सर्च अभियान चलाया, लेकिन तेज बहाव होने के कारण टीम को इसे बंद करना पड़ा।

“सोमवार से चल रहे सघन सर्च अभियान को तेज बहाव के कारण बंद कर दिया गया है। अभी तक नीतेश का कोई पता नहीं चला है। ऐसे में रायबरेली, कौशांबी और प्रयागराज जिले को मामले से अवगत कराया गया है। कोई भी सूचना मिलने पर आगे की कार्रवाई होगी।”

विकास पाण्डेय, नायब तहसीलदार, सदर, फतेहपुर

Related posts

सामाजिक न्याय की विरोधी है बीजेपी: इंद्रजीत सरोज

Aditya Mishra

UP Election – जनता के प्रति हमारा स्नेह है, कहीं न कहीं कुछ खामियां रह गई- शिवपाल यादव

Rahul

द्वितीय काशी बनने के पीछे की क्या है कथा, जाजमऊ में आज भी हैं इसके सबूत

Aditya Mishra