गाजीपुर पुलिस पर हत्‍यारोपियों से सांठगांठ का आरोप, एसपी आवास पर प्रदर्शन

फतेहपुर: गाजीपुर पुलिस पर पीड़ित पक्ष ने सोमवार को आरोप लगाते हुए एसपी आवास के बाहर जमकर नारेबाजी की। गाजीपुर पुलिस मुर्दाबाद और गलत कार्रवाई का आरोप लगाते हुए परिजनों ने ग्रामीणों के साथ न्याय की गुहार लगाई। पीड़ित पक्ष को एसपी आवास की ओर से संतोषजनक आश्वासन मिला है।

बता दें कि बीती आठ जुलाई को गाजीपुर थाना क्षेत्र के चकमीरपुर गांव में 22 वर्षीय युवक की हत्या हुई थी। इसमें पिंटू, राम किशोर, मुन्ना, कुलदीप और विक्रम को आरोपी बनाया गया था। पीड़ित नागेंद्र और उनके बड़े भाई सुरेंद्र  दोपहर बाद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसपी कार्यालय पहुंचे थे। हालांकि, तब तक एसपी सतपाल आंतिल यहां से जा चुके थे। इस पर सभी लोग पुलिस कप्तान के आवास जा पहुंचे। यहां पर गाजीपुर पुलिस मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए अपनी बात रखी।

गाजीपुर पुलिस पर गंभीर आरोप

मामले पर नागेंद्र ने बताया कि, गाजीपुर पुलिस ने आरोपी कुलदीप, रामकिशोर को गिरफ्तार किया है लेकिन दोनों आरोपियों को पिछले तीन दिन से थाने में बैठाए रखा है। उन्होंने आरोप लगाया कि, पुलिस आरोपियों से सुलह करने का दबाव बना रही है। इतना ही नहीं पीड़ित पक्ष से सादे पेपर में पुलिस ने हस्ताक्षर भी करवा लिया है।

मृतक अभिषेक के पिता सुरेंद्र ने आरोप लगाया कि, पुलिस विक्रम सिंह और चकसकरन प्रधान मुन्ना को गिरफ्तार नहीं करना चाहती है, इसीलिए सभी आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं। आरोपी पीड़ित परिवार और मृतक अभिषेक के छोटे भाई मोनू को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। ऐसे में यदि आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो हमारे साथ कभी भी बड़ी घटना हो सकती है।

एसपी आवास से मिला सकारात्‍मक आश्‍वासन

नागेंद्र सिंह ने बताया कि, उन्हें आशंका है कि आरोपी गाजीपुर पुलिस से सांठगांठ कर उनके भतीजे मोनू की हत्या करा सकते हैं। परिजनों ने मोनू की सुरक्षा के लिए पुलिस अधीक्षक से गुहार भी लगाई। पूरे घटनाक्रम पर पुलिस अधीक्षक आवास से सकारात्मक आश्वासन मिला है।

यूपी में संगठन विस्‍तार में लगा अपना दल

Previous article

यूट्यूब पर फिल्म देख बन गये बदमाश,रंगदारी के आरोप में पुलिस ने दबोचा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in यूपी