NIA की पूछताछ के बाद मेरठ के मंगल सिंह ने दी जान, जानिए पूरा मामला

मेरठ: मेरठ जिले के हस्तिनापुर निवासी परमजीत उर्फ मंगल सिंह ने सुसाइड कर लिया है। बीती रात मंगल ने जहर खा लिया और तबियत बिगड़ने पर इलाज के लिए मवाना के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। मगर, डॉक्‍टर उन्हें बचा नहीं सके। परमजीत की मौत के बाद उसके पिता ने बताया कि, उनका बेटा एनआइए की पूछताछ से गुमशुम रहने लगा था।

11 जुलाई को पूछताछ के लिए ले गई थी साथ

दरअसल, हस्तिनापुर के गांव दूधली खादर के परमजीत उर्फ मंगल सिंह को 11 जुलाई को राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) और पंजाब पुलिस अपने साथ ले गयी थी। जांच टीम ने छापा मारकर मंगल सिंह को उसके घर से पकड़ा था। एनआइए और पुलिस मंगल सिंह के घर में तलाशी लेते हुए खालिस्तानी आतंकियों से जुड़े केस की जांच कर रही थी। परिवार के अनुसार, पूछताछ के बाद 12 जुलाई को मंगल सिंह को छोड़ दिया गया।

परमजीत के पिता अजीत सिंह ने बताया कि, उन्हें 19 जुलाई को चंडीगढ़ पूछताछ के लिए बुलाया गया था। दोपहर से लेकर शाम 7 बजे तक पूछताछ होती रही और फिर जांच टीम ने उन्हें जाने दिया। रास्ते में वह मंगल से जांच के बाबत सवाल करते रहे, लेकिन वह चुप रहा। उसने बस इतना कहा कि अधिकारियों ने कुछ भी बताने से मना किया है। वह रात एक बजे घर पहुंचे थे।

पिछले साल हुई थी परमजीत की शादी

पिता के अनुसार, मंगल सिंह पास के एक डेरी फॉर्म में चौकीदार की नौकरी करता था। उसने वहीं कुछ खा लिया। जब मंगल के बारे में रात पौने दो बजे उन्हें सूचना मिली तो वह खुद खेत पर थे और मंगल को मवाना के निजी अस्पताल ले जाया गया था। अस्पताल पहुंचने पर उन्हें पता चला कि उनका बेटा अब इस दुनिया में नही है। मंगल की पिछले साल शादी हुई थी और उसकी पत्नी छह माह के गर्भ से है।

बता दें कि पंजाब में पुलिस हिरासत से फरार तीन कुख्यात आतंकियों के विदेश में होने की खबर है। बताया गया है कि विदेश में बैठे आतंकी देश विरोधी गतिविधियों में संलिप्त है और वहीं से देश के अलग-अलग जगहों पर मौजूद अपने लोगों से पंजाब में हत्या और सुपारी किलिंग का कारोबार चला रहे हैं। पंजाब पुलिस और एनआइए को इस मामले में मुजफ्फरनगर के सैदपुर फिरोजपुर गांव के गगनदीप की तलाश थी।

गगनदीप से पूछताछ में मंगल का नाम आया था सामने

मगर, एनआइए के छापे से पहले ही गगनदीप मेरठ के हस्तिनापुर थाने में दर्ज दहेज उत्पीड़न के मामले में जेल चला गया। कयास लगाया गया है कि गगनदीप को एनआइए के छापे से पहले जांच टीम के आने की सूचना मिल गयी थी। बाद में जांच टीम ने उसे रिमांड में लेकर पूछताछ की। इसी दौरान मंगल सिंह उर्फ परमजीत का नाम सामने आया। गगनदीप को आतंकियों के सप्लायर के तौर पर एनआइए ने पकड़ा है।

मुथरा में शर्मसार हुए रिश्ते, मौसा पर अपनी नाबालिग भतीजी के साथ दुष्कर्म का आरोप

Previous article

प्रधानमंत्री का यूपी दौरा: इस जिले में मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करेंगे पीएम

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured