featured यूपी

फतेहपुर: ईंट भट्ठों पर नहीं पड़ रही प्रशासन की नजर, अब डीएम ने दिया ये आदेश

फतेहपुर: ईंट भट्ठों पर नहीं पड़ रही प्रशासन की नजर, अब डीएम ने दिया ये आदेश        

फतेहपुर: जिले में करीब सौ के आसपास ईंट भट्ठे संचालित होते हैं। लेकिन यह किस तरह चल रहे हैं और एनजीटी के मानकों का कितना पालन हो रहा है यह देखने वाला कोई नहीं है। न तो कभी इनके खनन, ईंधन और प्रदूषण जांच तक नहीं हो पा रही है। इसी अनदेखी की आड़ में ईंट-भट्ठे संचालक अपनी मनमानी पर उतारू हैं। मामले पर जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने जांच के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि बीते दिनों पूर्वांचल के 1200 के आसपास ईंट भट्ठों को नियम विपरीत पाने पर बंद कर दिया गया है।

एनजीटी मानकों का पता नहीं

सरकार और एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) की मंशा है कि ईंट भट्ठे पीएनजी से चलें। साथ ही ईंट बनाने के लिए मिट्टी का खनन मानकों के साथ हो। इतना ही नहीं प्रदूषण विभाग की एनओसी के बाद ही भट्ठों का संचालन किया जाए। मंशा तो सबकी अच्छी है लेकिन भट्ठा संचालक कितना इन नियमों को पूरा कर पा रहे हैं, यह एक बड़ा सवाल है। फिलहाल जिले में इस सवाल का जवाब नहीं है।

प्रदेश में प्रदूषण कम करने के साथ ही लोगों को स्वस्थ पर्यावरण मिले, इसके लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं। इन्ही में एक है ईंट भट्ठों को नियमानुसार संचालित करवाना। इसमें यदि मानकों का पूरा पालन हो तो यही भट्ठे प्रदूषण रहित हो सकते हैं। इससे पर्यावरण के साथ ही लोगों को भी लाभ मिलेगा। इसीलिए एनजीटी ने पीएनजी से भट्ठों को संचालित करने का निर्देश जारी किया है। नई तकनीकी से चलने वाले ईंट-भट्ठों से पर्यावरण प्रदूषण कम होने के साथ ही प्राकृतिक संसाधनों का दोहन भी बंद हो जाएगा।

डीएम ने कही मानकों का पालन करवाने की बात

जिले में ललौली, गाजीपुर, बहुआ, रमवां, नरैनी, विजयीपुर, किशनपुर, खागा, बिंदकी, जहानाबाद सहित तमाम स्थानों पर ईंट भट्ठे मौजूद हैं। इनमें शायद ही कोई हो जो एनजीटी और प्रदूषण के सभी मानकों का पालन करता हो लेकिन इसके बाद भी यहां पर बिना रोकटोक के सब कुछ जारी है। इन सबके बीच जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने मानकों का पालन करवाने की बात कही है। अब देखने वाली बात होगी कि जिला प्रशासन की जांच में कितने भट्ठे फिट निकलते हैं?

Related posts

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का निधन, लखनऊ के मेदांता अस्पताल में ली आखिरी सांस

Rani Naqvi

देवबंद ने जारी किया मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ फतवा, जरी वाला बुर्का पहनना गलत

Breaking News

लखनऊ: अखिलेश के साथ आए केशव मौर्या, पढ़िए क्या है मामला

Shailendra Singh