September 29, 2021 5:28 am
featured यूपी

फतेहपुर में कुपोषण से लड़ने के लिए तैयार हुई फौज, जानिए पूरा प्‍लान

फतेहपुर में कुपोषण से लड़ने के लिए तैयार हुई फौज, जानिए पूरा प्‍लान

फतेहपुर: बच्चों और महिलाओं को कुपोषण से बचाने के लिए मजबूत फौज तैयार की गई है। इसी के तहत शुक्रवार को दो दिवसीय आगनबाड़ी कार्यकत्रियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्‍न हो गया। अब हर आंगनबाड़ी कार्यकत्री 1000 परिवारों को पोषण के प्रति जागरूक करने के साथ ही उन्हें प्रशिक्षित भी करेगी। समापन अवसर के दौरान मुख्य अतिथि उपाध्यक्ष जिला कार्यक्रम की शोभा अग्रवाल मौजूद रहीं।

थरियांव स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में हुए प्रशिक्षण में बाल पुष्टाहार और महिला पोषाहार कार्यक्रम के तहत आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के क्षमता विकास का प्रशिक्षण आयोजित किया गया था, जिसमें पर्वेक्षक मंजू ने बेहद महत्वपूर्ण योगदान दिया। प्रशिक्षण शिविर में डॉक्टर साधना वैश ने बताया कि, गांव में बच्चे और महिलाएं कुपोषित न रहे। सभी को स्वास्थ्यवर्धक भोजन अपने प्रबंधन से मिल सके इसके लिए जागरुकता एवं तकनीकी जानकारी के लिए आगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया गया है।

1000 परिवार को प्रशिक्षित करेगी हर कार्यकत्री  

प्रभारी अधिकारी डॉक्टर देवेंद्र देवेन्द्र स्वरूप ने कहा कि, आगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित करने का उदशेश्य है कि हर आगनबाड़ी कार्यकत्री 1000 परिवार को प्रशिक्षित कर उन्हें कुपोषण से बचाएंगी, जिसमें खानपान में सुधार करने के साथ ही सुरक्षित राशन का उत्पादन हो। यह सब लोगों को जागरूक करके ही किया जा सजता है। स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए स्वच्छ दूध का उत्पादन के लिए देशी गाय पालने की सलाह दी। इसके साथ ही उन्होंने मुर्गी पालन, बकरी पालन की जानकारी भी दी।

फसल उत्पादन वैज्ञानिक जितेंद्र सिंह ने पोषण सुरक्षा के लिए जैव संबर्धित फसलों और सब्जियों के उत्पादन एवं तकनीकी पर विस्तार से जानकारी दी। वैज्ञानिक फसल सुरक्षा डॉक्टर जगदीश किशोर ने मशरुम उत्पादन करने और उसके महत्व पर जानकारी दी। डॉ. नौशाद आलम ने पोषक भोजन के लिए फल एवं सब्जियों के उत्पादन के लिए वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन एवं उपयोग पर  जानकारी दी।

मौसमी फल-सब्जियों के बारे में भी जानकारी  

वहीं, डॉक्टर अलका कटियार ने पोषक रसोई बागवानी कैसे बनाएं एवं सब्जी-फल लगाने पर जानकारी दी। मौसम वैज्ञानिक सचिन शुक्ला ने मौसम आधारित फसल चयन कर सब्जी एवं अन्न उत्पादन की जानकारी दी। समापन अवसर पर मुख्य अतिथि ने कहा, गांवों में प्रत्येक परिवार को शुद्ध सब्जी और फल मिले इसके लिए कृषि विज्ञान केंद्र लगातार काम करता रहेगा। कार्यक्रम का संचालन कृषि वैज्ञानिक डॉ. जितेन्द्र सिंह ने किया।

Related posts

लगातार दसवें दिन घटे पेट्रोल-डीजल के दाम, यहां जाने कीमत

mahesh yadav

योग गुरू का बयान ‘नहीं बना राम मंदिर तो हो सकता है विद्रोह’,कोर्ट से नहीं मिलेगा हल

mahesh yadav

छत्तीसगढ़ बोर्ड: 12वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, इस साइट पर करें चेक

pratiyush chaubey