September 24, 2021 7:14 pm
featured यूपी

राज्यपाल ने देखा बरेली के रुहेलखंड विवि का नैक मूल्यांकन, दिए ये अहम निर्देश

राज्यपाल ने देखा बरेली के रूहेलखण्ड विवि का नैक मूल्यांकन, दिए ये अहम निर्देश    

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने मंगलवार को राजभवन में नैक मूल्यांकन के लिए बरेली के महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय का प्रस्तुतीकरण देखा। इस दौरान उन्होंने कहा कि, विश्वविद्यालय नैक मूल्यांकन में अपने स्तर के सुधार के लिए और अधिक प्रयास करें। वह नैक की सर्वोच्च रैंक पर अन्य विश्वविद्यालयों के लिए प्रतिमान स्थापित करने वाला स्तर हासिल करे।

राज्यपाल ने प्रस्तुतीकरण के दौरान कई ऐसे छोटे-छोटे बिन्दुओं पर ध्यान आकर्षित कराया, जहां विश्वविद्यालय अपने प्रयासों से स्तर में सुधार लाकर मूल्यांकन में वृद्धि कर सकते हैं। आज गवर्नर के सामने महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने अपने तीसरे नैक मूल्यांकन के लिए तैयारियों का प्रस्तुतीकरण दिया।

विवि को A++ श्रेणी प्राप्त करने के लिए किया प्रेरित

गौरतलब है कि नैक द्वारा विश्वविद्यालयों के स्तर का मूल्यांकन 75 प्रतिशत डेटा आधारित और 25 प्रतिशत विजिट आधारित होता है। इसके लिए समग्र मूल्यांकन की सात श्रेणियां निर्धारित हैं। विश्वविद्यालय ने 2015 में अपने दूसरे नैक मूल्यांकन में B+ श्रेणी और उससे पूर्व प्रथम मूल्यांकन में B+ श्रेणी प्राप्त की थी। जबकि 2015 के मूल्यांकन में नैक द्वारा मूल्यांकन श्रेणी में बदलाव लाकर B+ श्रेणी को मूल्यांकन से हटा दिया गया था। राज्यपाल ने विश्वविद्यालय को अपनी श्रेणी में सुधार कर A++ श्रेणी प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया।

इन चीजों को लेकर दिए निर्देश

कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने विश्वविद्यालय को उस क्षेत्र में स्थापित इण्डस्ट्रियों-कंपनियों के सीएसआर फंड से विश्वविद्यालय के इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास में सहभागिता कराने, छोटे स्तर पर महिला उद्यमिता को बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम करने, गरीब छात्रों के घर तक संपर्क के लिए शिक्षक मेन्टोर को निर्देशित करने, एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय की तर्ज पर व्यवस्थाओं को ऑनलाइन करने, छात्रों को उनके कोर्स से संबंधित व्यवहारिक ज्ञान और कंप्‍यूटर प्रशिक्षण की जानकारी देने, विश्वविद्यालय के म्यूजियम को शिक्षण से जोड़ने और कैंपस में दिव्यांगों के लिए शत-प्रतिशत सुविधाएं व्यवस्थित कराने के निर्देश दिए।

विद्यार्थियों को नैक के बारे में जानकारी देने का निर्देश  

बैठक में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कुलपति से कहा कि, वे विद्यार्थियों को जानकारी दें कि विश्वविद्यालय की ‘नैक श्रेणी’ में सुधार होने पर केंद्र सरकार से योजनाओं के लिए अधिक फंड और छात्रों के लिए सुविधाओं में विस्तार प्राप्त हो जाता है। उन्होंने इसके लिए शोध छात्र-छात्राओं को भी प्रशासनिक गतिविधियों से जोड़कर विश्वविद्यालय की नैक श्रेणी के सुधार के लिए प्रेरित करने को कहा। उन्‍होंने विवि को अपनी गतिविधियों को अधिकतम ऑनलाइन रखने, पुराने डेटा के संकलन को दुरुस्त करने, विद्यार्थियों से तालमेल बेहतर रखने, नवाचार बढ़ाने संबंधी निर्देश दिए। साथ ही नैक मूल्यांकन के लिए सभी आवश्यक तैयारियां उचित समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए।

विश्वविद्यालय के साथ नैक प्रस्तुतीकरण की तैयारियों पर इस बैठक में अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता, विशेष कार्याधिकारी (शिक्षा) डॉ. पंकज जॉनी, महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. के. पी. सिंह, चेयरमैन संजय मिश्रा, रजिस्ट्रार डॉ. राजीव कुमार, प्रो. विनय रिषिवाल और अन्य सहयोगी मौजूद रहे।

Related posts

रैली में ममता ने कहा, ‘हमसे जो टकराएगा, ‘मिट्टी में मिल जाएगा’

Pradeep sharma

ऑटोमोबाइल सेक्टर पर दिखा कोरोना का असर, बढ़ सकते हैं टू-व्हीलर्स के दाम

Aman Sharma

केन्द्रीय मंत्री का बसपा सुप्रीमो मायावती पर बड़ा हमला

kumari ashu