सीएम योगी ने कहा- BJP की जीरो टॉलरेंस नीति से प्रदेश छोड़कर भागे गुंडे-माफिया  

लखनऊ: राजधानी में सोमवार को भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति बैठक हुई। इस बैठक के समापन में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। साथ ही प्रदेश को विकास की राह पर तेजी से लाने के लिए सामूहिक स्‍तर पर कार्य करने पर जोर दिया।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित प्रदेश कार्यसमिति बैठक के समापन के सत्र में मुख्‍यमंत्री ने कहा कि, हमारी सरकार ने जब से शपथ ली, तब से ही जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम किया है। सरकार ने कानून-व्यवस्था में सुधार को शीर्ष वरीयता पर रखते हुए शातिर अपराधियों पर शिकंजा कसा। हमने उन्‍हें आर्थिक चोट भी दी। प्रदेश में हजार से ज्‍यादा अपराधी जेल में हैं, जबकि कई अपराधी प्रदेश छोड़कर भाग गए हैं।

दूसरे राज्‍यों में भागकर छिपे हैं गुंडे-माफिया: मुख्‍यमंत्री  

सीएम योगी ने कहा कि, भाजपा की जीरो टॉलरेंस की नीति आज साफ दिख रही है। आज प्रदेश के गुंडे-माफिया दूसरे राज्यों में मुंह छिपाए बैठे हैं। जो गुंडे कभी सत्ता का सरपरस्त बनकर सत्ता का संचालन करते थे। आज हमारी जीरो टॉलरेंस नीति के कारण वे दूसरे राज्यों में जाकर अपनी जान की भीख मांगकर मुंह छुपाकर बैठे हैं।

सूबे के मुखिया ने कहा कि, हमने कोरोना के भयंकर संक्रमण से प्रदेश की जनता को बचाने के लिए बड़े जतन किए हैं। इसी कारण ही हमारे उत्‍तर प्रदेश को कम नुकसान हुआ है। इस दौरान उन्‍होंने कहा, कोरोना संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है, इसलिए हमें पूरी तरह से सावधान और सतर्क रहना है। समाज के हर वर्ग को वैक्सीन लगाई जा रही है। वैक्‍सीनेशन में किसी से कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है।

विकास कार्यों से प्रदेश की अर्थव्‍यवस्‍था में आई तेजी

मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा कि, हमें अभी प्रदेश की छवि को एक नई दिशा में ले जाने के लिए अभी बहुत कार्य करने हैं। उन्‍होंने कहा, चार वर्ष पहले जब यूपी से बाहर जाते थे तो यहां के लिए क्या राय बनती थी और अब राय क्या है। उत्‍तर प्रदेश ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ में पहले 14वें नंबर पर था और आज दूसरे स्‍थान पर है। राज्‍य में हुए विकास कार्यों से प्रदेश की अर्थव्यवस्था में तेजी आई है, जिससे आज यूपी का राजस्व एक लाख करोड़ रुपए का है।

विपक्ष पर निशाना साधते हुए सीएम योगी ने कहा कि, विपक्षी पार्टियों के एजेंडे में किसान नहीं बल्कि जातिवाद और तुष्टीकरण था। मगर, आज ‘ईज ऑफ लिविंग’ को आसान बनाने के लिए 40 लाख गरीबों को आवास उपलब्‍ध कराए गए हैं। उन्‍होंने कहा, देश में कांग्रेस की सरकार लंबे समय तक थ, लेकिन उन्होंने किसानों के लिए कभी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, किसान स्वॉयल हेल्थ कार्ड, प्रधानमंत्री सिंचाई बीमा जैसी योजनाएं लागू नहीं कीं।

सीएम योगी ने कहा- किसानों के लिए है मंडी सुविधा

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, पहले मकई की कीमत 1100 रुपए थी, जिसे 1800 रुपए किया गया। इसका लाभ किसानों को मिला। मंडी सुविधा किसानों के लिए है और अगर कोई किसान अपनी उपज को दूसरे जिले में बेचना चाहता है तो उसे कोई नहीं रोक सकता। वर्ष 2017 से पहले प्रदेश में किसानों की गेहूं, दलहन, तिलहन जैसी उपज के लिए सरकारी खरीद की व्यवस्था अच्‍छी नहीं थी, लेकिन हमारी सरकार ने रिकॉर्ड धान की खरीददारी की। इसका पैसा भी सीधे किसानों के खाते में पहुंचाया गया।

जानिए जसप्रीत बुमराह की पत्नी संजना गणेशन से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें

Previous article

GOOD NEWS: अब हवा में अमोनिया-आर्सेनिक के स्तर को देख सकेंगे काशीवासी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.