Breaking News featured यूपी

UP: शिक्षकों व निराश्रित बच्‍चों के लिए खुशखबरी, सीएम योगी का बड़ा आदेश

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का टीम-9 को निर्देश, गांवों पर दें विशेष ध्‍यान  

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण काफी तेजी से कम हो रहा है। सरकार इसके लिए लगातार प्रयास कर रही है। बुधवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कोविड-19 प्रबंधन के लिए गठित टीम-9 के साथ बैठक की और दिशा-निर्देश दिए।

बैठक में सीएम योगी ने अधिकारियों को आदेश देते हुए कहा कि, प्राविधिक शिक्षा व व्यावसायिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत संचालित सभी संस्थानों सहित प्रदेश के समस्त शिक्षण संस्थानों में एक भी शिक्षक का वेतन में कटौती न की जाए। यदि संस्थान ने छात्रों से शुल्क लिया है तो शिक्षकों का वेतन भुगतान अनिवार्य रूप से किया जाना चाहिए। संबंधित विभाग इस व्यवस्था का अनुपालन कराया जाना सुनिश्चित करें।

निराश्रित बच्‍चों के लिए आदेश  

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि, कोविड-19 महामारी के बीच अनाथ व निराश्रित हुए बच्चे राज्य की संपत्ति हैं। कोविड के कारण जिन बच्चों के माता-पिता का देहांत हो गया है, उनके भरण-पोषण सहित सभी तरह की जिम्मेदारी राज्य सरकार द्वारा मुहैया कराई जाएगी। महिला एवं बाल विकास विभाग इस संबंध में तत्काल विस्तृत कार्ययोजना तैयार करे।

आज बैठक में बताया गया कि, प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर अब 91.4 प्रतिशत हो गई है। पिछले 24 घंटे में राज्य में कोरोना संक्रमण के कुल 7,336 मामले आए हैं। यह संख्या 24 अप्रैल को आए 3,8055 मामलों से लगभग 30 हजार कम है। वहीं, पिछले 24 घंटों में 19,669 संक्रमित व्यक्ति इलाज के बाद डिस्चार्ज हुए हैं।

प्रदेश में 1,23,579 सक्रिय मामले

वर्तमान में राज्य में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 1,23,579 है, जो 30 अप्रैल, 2021 की अधिकतम एक्टिव मामलों की संख्या 3,10,783 से 1.87 लाख कम है। इस प्रकार 30 अप्रैल के सापेक्ष वर्तमान में अधिकतम एक्टिव मामलों की संख्या में 69 फीसदी की कमी आई है।

प्रदेशवासियों की स्वास्थ्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। प्रदेश में ओवरऑल कोविड पॉजिटिविटी रेट 3.6 फीसदी है। जबकि बीते 24 घंटों में यह दर 2.45 फीसदी रही है। प्रदेश की विशाल जनसंख्या और महामारी की स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश की यह स्थिति संतोषप्रद है।

टेस्टिंग अभियान के मिल रहे अच्‍छे परिणाम

एग्रेसिव टेस्टिंग की नीति उत्तर प्रदेश ने शुरुआत से ही अपनाई है। बीते 24 घंटे में एक नया रिकॉर्ड बनाते हुए प्रदेश में 2,97,327 टेस्ट हुए हैं। इसमें 02 लाख 19 हजार टेस्ट केवल ग्रामीण क्षेत्रों में हुई है। जबकि 1,22,000 टेस्ट आरटी-पीसीआर माध्यम से हुए हैं। अब तक प्रदेश में 4,55,31,018 टेस्ट हो चुके हैं। गांवों में संचालित टेस्टिंग अभियान के अच्छे परिणाम प्राप्त हो रहे हैं।

Related posts

पीएनबी घोटाला: कभी भी हो सकती है नीरव मोदी की गिरफ्तारी,

mahesh yadav

गड़बड़ करने वाले लोग हर जगह हैं मौजूद: नीतीश कुमार

Trinath Mishra

11 मार्च को महाशिवरात्रि, भोलेनाथ को नहीं पसंद हैं ये 7 चीजें?, भूल कर भी ना चढ़ाएं

Saurabh