featured यूपी

उत्‍तर प्रदेश में निवास करती है सनातन हिंदू धर्म की आत्‍मा: मुख्‍यमंत्री योगी

उत्‍तर प्रदेश में निवास करती है सनातन हिंदू धर्म की आत्‍मा: मुख्‍यमंत्री योगी

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने राजधानी लखनऊ में ‘रामायण विश्‍व महाकोश’ के प्रथम संस्‍करण (कर्टेन रेजर वॉल्‍यूम) का विमोचन व कार्यशाला का उद्घाटन किया है।   

यह भी पढ़ें: सांसद स्मृति ईरानी ने किया तिलोई बस अड्डे का शिलान्यास, जानिए पूरा कार्यक्रम

मुख्यमंत्री ने शनिवार को यूपी संगीत नाट्य अकादमी के प्रेक्षागृह में रामायण तथा महाभारत के महत्‍व पर प्रकाश डाला। उन्‍होंने कहा, हम सब इस बारे में जानते हैं कि भारत की सीमाएं उत्तर से दक्षिण तक अगर आज भी उसी रूप में बनी हैं तो उसका श्रेय भगवान राम को जाता है। भगवान राम ने सांस्कृतिक रूप से उत्तर और दक्षिण के बीच खाई को पाटने का काम किया और आज भारत गणराज्य सांस्कृतिक भारत की ठोस आधारशिला पर खड़ा है।

भारत को गौरव से दूर करती है विकृत मानसिकता

सीएम योगी ने कहा, मलेशिया में लोग कहते हैं कि हो सकता है हमने किन्हीं परिस्थितियों में इस्लाम कबूल किया पर हमारे पूर्वज तो राम ही हैं। आप पश्चिम में आइए, जो तक्षशिला है, वो भरत के पुत्र के नाम पर है। हमने इसे विस्मृत कर दिया। रामायण और महाभारत की कहानियां हमें बहुत कुछ बताती हैं, बहुत कुछ सिखाती हैं।

सूबे के मुखिया ने कहा, इंसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण से विज्ञान और आधात्म के मिश्रित रूप को जानने का अवसर मिलेगा। लोक परंपराओं और साहित्य में सब कुछ मौजूद है और यह विश्वकोश इसे जन-जन तक पहुंचाने का कार्य करेगा। उन्‍होंने कहा, मैं बनारस में एक लाइब्रेरी में गया, जहां बहुत पुरानी-पुरानी पांडुलिपियां थीं। इन्‍हें डिजिटल फॉर्म में लाने की कोशिश होनी चाहिए। हमें इसे वैश्विक मंच पर भी देखना होगा।

इनसाइक्लोपीडिया ऑफ द रामायण का डिजिटल फॉर्म

मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा, ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ द रामायण की कार्यशाला एक अच्छी और सकारात्मक पहल है। मैं चाहूंगा कि इसको डिजिटल फॉर्म में जोड़ दें और भाषा का कोई विवाद नहीं होना चाहिए। इसे दुनिया की हर भाषा के साथ जोड़ना चाहिए। यह विश्वकोश अपने आप में रामायण के विश्वव्यापी स्वरूप को प्रस्तुत करने में सहायता करेगा। उन्‍होंने कहा, भगवान श्रीराम जी ने भगवान विष्णु का अवतार होने के बावजूद खुद को मानव से इतर प्रकट करने की कोशिश नहीं की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत की सनातन हिंदू धर्म परंपरा के मुताबिक, जिन सात नगरों को हम सप्तपुरियों के रूप में जानते हैं, उसमें से तीन (अयोध्या, मथुरा, काशी) तो उत्तर प्रदेश में ही हैं। सनातन हिंदू धर्म की आत्मा उत्तर प्रदेश में निवास करती है। रामायण विश्वकोश तैयार करना हमारे लिए गौरव की बात है। यह अभियान मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के बारे में बहुत सारी जानकारियां देने का काम करेगा।

भारत के खिलाफ गंदा बोलने वाले बिकाऊ

इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि उपासना विधि को लेकर हम यहां विवाद खड़ा करते हैं, तोड़ने की कोशिश में रहते हैं। वह अंकोरवाट में इस बात को खुलकर बोल सकता है। भारत में बोलेंगे तो सेकुलरिज्म को खतरा हो जाएगा। उन्‍होंने कहा, भारत के खिलाफ जितने लोग गंदा बोलते हैं, वे बिकाऊ हैं। चंद पैसों के लिए अपनी आत्मा बेचते हैं। जो लोग भारतीय संस्कृति और समृद्ध परंपरा के बारे में दुष्प्रचार कर रहे हैं, वे ना घर के हैं और ना घाट के।

Related posts

व्हाट्सएप पर समाधान निकालने को तैयार है फेसबुक लेकिन ट्रेस करने की मांग को ठुकराया

Trinath Mishra

IPL 2018: दिल्ली में दिखी DD की दिलेरी, चेन्नई सुपरकिंग्स को 34 रनों से हराया

rituraj

यूपी शिक्षा परिषद का शैक्षणिक कैलेंडर जारी, 14 दिन का होगा शीतकालीन अवकाश

Rahul