January 23, 2022 3:21 am
यूपी

विदेशी कंपनियों के खिलाफ यूपी आदर्श व्‍यापार मंडल व CAIT का मोर्चा, उठाया ये बड़ा कदम

विदेशी कंपनियों के खिलाफ यूपी आदर्श व्‍यापार मंडल व CAIT का मोर्चा, उठाया ये बड़ा कदम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल एवं कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने प्रधानमंत्री एवं वाणिज्य मंत्री को ई-मेल भेजा है। उन्‍होंने ई-मेल के जरिए विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा एफडीआइ के नियमों का उल्लंघन कर किए जा रहे व्यापार पर अंकुश लगाने, जांच कराने और देश में ई-कॉमर्स के लिए नीति बनाने की मांग की।

उत्‍तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल एवं कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने सोमवार को भेजे ई-मेल में विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों (अमेजॉन, फ्लिपकार्ट एवं अन्य) द्वारा एफडीआइ के नियमों का उल्लंघन करते हुए देश में किए जा रहे व्यापार पर अंकुश लगाने, देश में ई-कॉमर्स के लिए नीति बनाने और इनके बिजनेस मॉडल की जांच की मांग की।

विदेशी कं‍पनियों के खिलाफ ई-कॉमर्स शुद्धिकरण सप्ताह

आदर्श व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष एवं कैट के प्रदेश चेयरमैन संजय गुप्ता ने बताया कि, कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के बैनर तले देशभर में ई-कॉमर्स शुद्धिकरण सप्ताह चलाया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि, विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को देश में मार्केट प्लेस के रूप में कार्य करने की अनुमति दी गई थी।

व्‍यापारी नेता ने कहा कि, प्रेस नोट-2 में स्पष्ट प्रावधान है कि यह कंपनियां एवं इनकी सहयोगी कंपनियां अपने पोर्टल पर अपना कोई भी सामान नहीं बेचेंगी, लेकिन यह कंपनियां नियमों के विरुद्ध स्वयं के माल की खरीद एवं बिक्री करती हैं। जबकि विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों को इन्वेंटरी आधारित मॉडल के लिए प्रतिबंधित किया गया था, लेकिन यह कंपनियां इन्वेंटरी आधारित व्यापार कर रही हैं।

भारत के व्‍यापारियों को व्‍यापार से बाहर करने की साजिश

मंडल अध्‍यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि, इन विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों का लक्ष्य भारत के परंपरागत व्यापारियों को धीरे-धीरे सुनियोजित तरीके से रिटेल सेक्टर के व्यापार से बाहर करना है। इसलिए यह कंपनियां स्वयं घाटा खाकर बड़े-बड़े डिस्काउंट दे रही हैं, जिससे भारत के व्यापारी प्रतिस्पर्धा में ना टिक पाए और व्यापार से बाहर हो जाएं।

उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल ने प्रधानमंत्री मोदी व वाणिज्य मंत्री से इन कंपनियों के बिजनेस मॉडल की जांच करने की, इन पर अंकुश लगाने की, देश में ई-कॉमर्स के लिए नीति बनाने की और इसके लिए नियामक तंत्र गठित करने की मांग की। जिससे इन कंपनियों को नियम विरुद्ध व्यापार करने पर दंडित किया जा सके और देश के रिटेल सेक्टर के व्यापारियों को बचाया जा सके।

Related posts

प्रयागराज में अब तीन मई तक नाइट कर्फ्यू, जरूरी सेवाओं को छूट  

Shailendra Singh

योगी सरकार के 4 साल में महिलाओं के प्रति कितने अपराध हुए कम, NCRB के आंकड़ों में हुआ खुलासा !

Rahul

लखनऊः भारी बारिश ने जलमग्न हुईं सड़के, जानिए कैसा रहेगा आज का मौसम

Shailendra Singh