अज्ञात शव और पोस्टमॉर्टम के बीच की वो प्रक्रिया, जिसे आप जानना चाहेंगे!

फतेहपुर: जिले के कल्याणपुर थाना क्षेत्र में युवती का अधजला शव मिलने के बाद पोस्टमार्टम में काफी समय लग सकता है, जो कि 72 घंटे के आसपास का है। ऐसे में एक बात तो दिमाग में आती है कि आखिर अज्ञात शव के साथ पोस्टमार्टम में इतनी देरी क्यों होती है?

इस पर जब जानकारों से बातचीत की गई तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आयी। अब आप भी पढ़ें कि अज्ञात शव मिलने के बाद क्या होता है? कैसे उसका अंतिम संस्कार होता है और फिर अंतिम संस्कार के बाद क्या होता है?

समाचार का फॉलोअप न होने से नहीं मिल पाती जानकारी

हम आए दिन कहीं न कहीं अज्ञात शव मिलने के समाचार पढ़ते रहते हैं। साथ ही यह भी पढ़ते हैं कि सूचना के बाद मौके पर पुलिस पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फिर इसके बाद उस समाचार का कोई फॉलोअप नहीं होता है, जिससे हमें यह पता नहीं चलता कि आखिर उस अज्ञात शव का हुआ क्या?

जिस थाना क्षेत्र में अज्ञात शव मिलता है, पुलिस मौके पर उसकी पहचान कराने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ती है। अज्ञात शव का जो भी पहनावा होता है, उसे एक-एक करके भलीभांति तरीके से लिखा जाता है। इसमें पांच लोगों की मौजूदगी में शव पर मिलने वाले चोट के निशान, अन्य निशान, घाव और ऐसी कोई भी चीज जो सामान्य शरीर से हटकर हो, उसे रजिस्टर में दर्ज किया जाता है।

मर्च्युरी में 72 घंटे रखा जाता है शव

इसमें अंगुलियों या शरीर में जहां भी तिल के निशान होते हैं, उन्हें भी शामिल किया जाता है। शव के कपड़े, जूते इत्यादि संबंधित थाने में रखे जाते हैं। साथ ही मौके पर पांचों से हस्ताक्षर कराए जाते हैं। इसके बाद शव को ससम्मान पोस्टमार्टम के लिए मर्च्युरी भेज दिया जाता है। जब भी कोई अज्ञात शव पोस्टमार्टम के लिए मर्च्युरी जाता है तो उसे वहां 72 घंटे रखा जाता है, जिससे उससे पहचान करायी जा सके।

अंतिम संस्‍कार के बाद संरक्षित किया जाता है डीएनए व बिसरा

ऐसे में यदि तीन दिन तक भी शव की पहचान नहीं हो पाती है तो उसका पोस्टमार्टम किया जाता है। पोस्टमार्टम के बाद शव को ससम्मान ले जाकर उसके धर्म, रीति रिवाज के अनुसार ही अंतिम संस्कार किया जाता है। अंतिम संस्कार के बाद उसका डीएनए, बिसरा संरक्षित किया जाता है, जिससे आगे की कार्यवाही की जा सके। तो यह थी अज्ञात शव के बारे में कुछ खास जानकारी।

कानपुर: सजेती दुष्कर्म कांड में DIG की कड़ी कार्रवाई, दो दरोगा सहित तीन पुलिसकर्मी निलंबित

Previous article

लखनऊ मेट्रो में नौकरी का सुनहरा अवसर, आवेदन प्रक्रिया हुई शुरु

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured