e980a4f5 2561 4767 b84c c3287c984c97 'टोरबाज' का ट्रेलर हुआ रीलीज, अभिनेता ने कहा- रेफ्यूजी कैंप में रहने वाले बच्चे टेररिस्ट नहीं होते बल्कि वे टेररिज्म का पहला शिकार होते हैं

बॉलीवुड। फिल्म इंडस्ट्री में बाबा के नाम से मशहूर अभिनेता संजय दत्त केंसर जैसी भयानक बीमारी से लड़ रहे थे। लेकिन अब अभिनेता केंसर को मात देकर अपने फैंस के लिए फिर फिल्मों में दिखाई देने वाले हैं। उन्होंने एक बयान में इसके बारे में कहा था कि वह अब ठीक हैं। हालांकि उन्होंने अभी सोशल मीडिया से दूरी बना ली है। उनकी एक के बाद एक कई दमाकेदार फिल्में रीलीज होने वाली हैं। जानकारी के लिए बता दें कि कुछ देर पहले उन्होंने उनकी नई फिल्म टोरबाज का ट्रेलर फैंस के साथ शेयर किया है। नेटफ्लिक्स इंडिया पर उनकी नई फिल्म ‘टोरबाज’ का 2 मिनट 14 सेंकेड का ट्रेलर लॉन्च हुआ है। सोशल मीडिया पर दर्शकों द्वारा इस ट्रेलर को खूब पसंद किया जा रहा है।

टोरबाज’ का ट्रेलर लॉन्च हुआ-

बता दें​ कि दर्शकों द्वारा अभिनेता संजय दत्त की फिल्मों का बड़ी ही बेसबरी से इंतजार किया जाता है। क्योंकि उनकी फिल्मों में अभिनेता का दमदार एक्शन दिखाया जाता है। अपनी दमदार एक्टिंग की वजह से संजय दत्त लोगों के दिलों दिमाग पर छाए रहते हैं। कुछ देर पहले ही संजय दत्त ने अपनी नई फिल्म ‘टोरबाज’ का ट्रेलर फैंस के साथ शेयर किया है। आज उनकी नई फिल्म टोरबाज का ट्रेलर लॉन्च हुआ है। फिल्म का ये ट्रेलर 2 मिनट 14 सेकेंड का है। संजय दत्त इन बच्चों को आतंकवाद से बचाने की कोशिश कर रहे हैं और उनके अच्छे जीवन के लिए उन्हें क्रिकेट सिखा रहे हैं। संजय दत्त एक एक्स-आर्मी डॉक्टर का किरदार निभा रहे हैं, जो बच्चों के कोच बने हुए हैं। ट्रेलर में राहुल देव को एक आतंकवादी के किरदार में दिखाया गया है। वह एक आतंकवादी संगठन के मुखिया बने हैं। राहुल देव रेफ्यूजी कैंप में रहने वाली बच्चों को आतंकवादी गतिविधियों में इस्तेमाल करते हैं। फिल्म की कहानी अफगानिस्तान के एक रेफ्यूजी कैंप की है। फिल्म में संजय दत्त के साथ राहुल देव और नरगिस फाकरी भी मुख्य भूमिका में दिखाई देंगी। फिल्म नेटफ्लिक्स पर 11 दिसंबर को रिलीज होगी।

बच्चों को आतंकवाद से बचाने की कोशिश में अभिनेता-

वहीं, संजय दत्त इन बच्चों को आतंकवाद से बचाने की कोशिश कर रहे हैं और उनके अच्छे जीवन के लिए उन्हें क्रिकेट सिखा रहे हैं। लेकिन ये सब आतंकवादी बने राहुल देव को खटकने लगता है। वह बच्चों के हाथ में क्रिकेट केब बैट और बॉल की जगह हथियार पकड़ाना चाहाता है। एक सीन में संजय दत्त कहते हैं, ‘रेफ्यूजी कैंप में रहने वाले बच्चे टेररिस्ट नहीं होते बल्कि वे टेररिज्म का पहला शिकार होते हैं।

Trinath Mishra
Trinath Mishra is Sub-Editor of www.bharatkhabar.com and have working experience of more than 5 Years in Media. He is a Journalist that covers National news stories and big events also.

रिलायंस-फ्यूचर ग्रुप की डील को मिली भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की मंजूरी, Amazon को लगा झटका

Previous article

‘लव जिहाद’ को लेकर योगी सरकार कठोर कानून लाने की तैयारी में, कानून मंत्रालय को भेजा मसौदा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.