September 17, 2021 2:55 pm
धर्म

आज है नाग पंचमी, जानें कैसे आरंभ हुई नाग की पूजा

nag panchami, naag, naga, worship, spritual, religion

नई दिल्ली। प्राचीन काल से प्रचलित है नागो की पूजा वराह पुराण में इस उत्सव के इतिहास पर प्रकाश डालते हुआ बताया गया कि आज के ही दिन सृष्टिकर्ता ब्रम्हा ने अपने प्रसाद सेशेषनाग को विभूषित किया था शिवजी शर्पों की माला पहनते हैं विष्णु भगवान सेषनाग पर शयन करते हैं इसलिए श्राणव मास की शुक्ल पंचमी को नाग पंचमी पर्व मनाया जाता है।

nag panchami, naag, naga, worship, spritual, religion
naag panchmi

महाभारत की कथाओं से पता चलता हैं कि नाग भारत की एक जाति थी जिसकी आर्यों से संघर्ष हुआ करता था आस्तीक ऋृषि ने आर्यों और नागो के बीच उत्पनन करने का बहुत्व प्रयत्न किया वे अपने कार्य में सफल भी हुए दोनों एक दूसरे के प्रेम सूत्र में बंध गए यहां तक की वैवाहिक संबंध भी होने लगा इस प्रकार अंतर्जातीय संघर्ष समाप्त हो गया सर्पभय से मुक्ति के लिए आस्तीक का नाम अब भी लिया जाता है।

नाग पूजा

नागों के प्रति सम्मान के प्रमाण अनेक स्थानों पर प्राप्त हुए हैं दक्षिण भारत में नाग की एक अत्यंत प्राचीन विशाल मूर्ति है अंजता की गुफाओं में भी नागपूजा के चित्र बने हुए है मालाबार मे नागों के लिए कुछ भूमि छोड़ी गई है प्राचीन ग्रथों में नाग लोक का वितरण है प्राचीन काल से ही यूनान और मिस्त्र के मंदिरों में सर्प पाले जाते हैं। चीन की राजधानी बीजिंग में भी एक नाग मंदिर हैँ।

 

 

Related posts

जीवन में खुशहाली के लिए होली के दिन अपनाएं ये टोटके

shipra saxena

दैनिक राशिफल: जानिए आज का दिन आपके लिए कितना लाभकारी होने वाला है

Aditya Mishra

बजरंग बांण के पाठ से मिलेगी सभी प्रकार के दु:खाें से मुक्ति, ऐसे पढ़ते हैं पाठ

bharatkhabar