August 20, 2022 12:01 pm
Breaking News featured देश

दुनिया देखेगी अग्नि-5 का दम, चीन समेत कई देश आएंगे जद में

agni 5 दुनिया देखेगी अग्नि-5 का दम, चीन समेत कई देश आएंगे जद में

नई दिल्ली। भारत ने 11 मई 1998 को दूसरी बार परमाणु परीक्षण किया था, जिसके शुक्रवार को 20 साल पूरे हो गए हैं। इसी को देखते हुए भारत पहली इंटरकॉन्टिनेंटल बेलास्टिक मिसाइल अग्नि-5 की तैयारियों में जुट गया है। रक्षा सूत्रों के मुताबिक पांच हजार किलोमीटर तक मार करने में सक्षम इस मिसाइलके कई सिस्टम और सह सिस्टम एसएफसी की नई अग्नि-5 यूनिट को सौंपे गए हैं। बता दें कि इस मिसाइल की खासियत ये है कि इसकी जद में चीन और चीन जैसे कई देश आते हैं।

इसके अलावा यूरोप और अफ्रीका के देश भी अग्नि-5 की रेंज में आ जाएंगे। अग्नि-5 का दूसरा प्री इंडक्शन ट्रायल जल्द होगा। खबरों के मुताबिक अगर सब कुछ पहले टेस्ट की तरह सही रहा तो जल्द ही मिसाइल को स्ट्रेटिजिक बेस पर शिफ्ट कर दिया जाएगा। बता दें कि भारत के रक्षा सौदे में ये मिसाइल अब तक की सबसे ताकतवर मिसाइलों में से एक है। अभी देश के पास जो मिसाइल क्षमता है, उसमें पृथ्वी-2 की रेंज 350 किलोमीटर है। agni 5 दुनिया देखेगी अग्नि-5 का दम, चीन समेत कई देश आएंगे जद में

इसके साथ ही अग्नि-1 की मारक क्षमता 700 किलोमीटर है। वहीं अग्नि-3 की तीन हजार किलोमीटर है। इसके अलावा सुखोई-30 एमकेएल, मिराज-2000 और जगुआर फाइटर्स भी न्यूक्लियर बम ले जाने में सक्षम है। इन सब से आकाश में तो भारत की ताकत बढ़ती जा रही है, लेकिन पानी के अंदर सुरक्षा को लेकर अभी और काम किया जाना बाकी है। सबमरीन को न्यूक्लियर स्ट्राइक के लिए सबसे सुरक्षित और ताकतवर प्लैटफॉर्म माना जाता है।

50 टन वजनी अग्नि-5 मिसाइल 1.5 टन न्यूक्लियर वारहेड अपने साथ ले जा सकती है। ये पहले से मौजूद अग्नि मिसाइलों से ज्यादा खतरनाक है और हमला करने में कम से कम समय लेती है। साथ ही इसकी देख-रेख पर भी कम पैसा खर्च होता है। हालांकि इस समय चीन के पास सबसे खतरनाक मिसाइल डीएफ-31ए है। इसकी रेंज 11200 किलोमीटर है। वहीं पाकिस्तान के पास सबसे ज्यादा मार करने वाली मिसाइल शाहीन है,जिसकी रेंज 2500 किलोमीटर है।

Related posts

भारत में होने वाले ‘हार्ट ऑफ एशिया’ सम्मेलन में शिरकत करेंगे सरताज

bharatkhabar

30 अगस्त को लखनऊ में होगा मेगा वेंडर मीट का आयोजन, रेलवे में व्यापार के अवसरों पर होगी चर्चा

Trinath Mishra

16 नवंबर से पश्चिम बंगाल में खुलेंगे स्कूल : सीएम ममता बनर्जी

Neetu Rajbhar