पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

लखनऊ: वैसे तो भारत त्योहारों का देश माना जाता है। यहां पर हर महीने कोई न कोई त्योहार आते ही रहते हैं, लेकिन कुछ महीने ऐसे होते हैं जब त्योहारों की बौछार हो जाती है। इस बार अप्रैल का महीना भी त्योहारों वाला है। इस बार जहां 13 अप्रैल से वासंतिक नवरात्र पड़ रहे हैं, वहीं 25 अप्रैल से लगन शुरू होने वाले है।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

25 अप्रैल से हिंदू घरों में शुभ घड़ियां शुरू होंगी और शहनाई बज उठेगी। वहीं मुस्लिमों का पाक महीना रमजान भी इसी महीने में शुरू हो रहा है। रमजान का पावन महीना कब से शुरू होगा इसका फैसला चांद देखकर किया जाएगा लेकिन अनुमान के मुताबिक ये 12 से 13 अप्रैल के बीच शुरू होगा।

अप्रैल में पड़ रहे कई व्रत और त्योहार

बता दें कि इस बार अप्रैल महीने में कई व्रत और त्योहार मनाए जाने हैं। हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास में नवरात्रि के अलावा हनुमान जयंती और बैशाखी मनाई जाएगी तो वहीं रमजान में रोजा रखने की शुरूवात भी इसी महीने शुरू होगी। हिंदू धर्म के अनुसार चैत्र पाठ पूजा पाठ के लिए सबसे पावन महीना माना जाता है। ये धर्म और कर्म का महीना भी कहलाता है।

बाजारो में दिखेगी रौनक

यही कारण है कि अप्रैल महीने में बाजारों में अत्यधिक रौनक देखने को मिलेगी। इस महीने जहां हिंदू भाई मां दुर्गा को मनाने के लिए पूजा पाठ शुरू करेंगे और चुन्नी और माला खरीदते दिखाई देंगे तो मुस्लिम भाई रमजान में बाजारो में रमजान से जुड़े सामान खरीदते दिखेंगे।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

वहीं जैसे ही 25 अप्रैल की तारीख दस्तक देगी हिंदू घरों में शहनाइयां बजने लगेंगी और बाजारों में लोग शादी का सामान खरीदने निकल पड़ेंगे। हालांकि इस बार कोरोना महामारी के चलते बाजारों में रौनक कुछ कम दिखाई देगी।

सरकार की सख्ती के कारण लोगों को विशेष सावधानियां बरतनी होगी। एक साथ कई लोगों का निकलना भी अब संभव नहीं होगा।

13 से शुरू हो रहा नवरात्र

सबसे पहले बात करते हैं नवरात्रि की तो नवरात्र का त्यौहार हर साल चैत्र महीने में मनाया जाता है। नवरात्र का महीना साल में दो बार पड़ता है। एक बार जाड़े में तो एक बार गर्मियों में। गर्मी में पड़ने वाले नवरात्र के महीने को वासंतिक तो वहीं जाड़े में पड़ने वाले नवरात्र के महीने को शारदीय नवरात्र कहते हैं।

शारदीय नवरात्र हर साल शरद ऋतु में पड़ता है। वहीं वसंत ऋतु में पड़ने के कारण गर्मी के नवरात्र को वासंतिक नवरात्र कहते हैं। नवरात्र में शक्ति का रूप मां दुर्गा के नौ रुपों की पूजा की जाती है। चुंकि मां अपने भक्तों की हर मुराद पूरी करती हैं इसलिए लोग मां का आह्वान करते हैं और उन्हें अपने घर में आने के लिए आमंत्रित करते हैं।

इन नौ दिनों में लोग सात्विक भोजन करते हैं और व्रत रहकर मां दुर्गा को खुश करने का प्रयास करते हैं। वहीं 21 अप्रैल को रामनवमी मनाई जाएगी।

रमजान का महीना भी इसी महीने

अप्रैल का पूरा महीना मुसलमानों के लिए इबादत का महीना बन गया है। दरअसल मुस्लिम कैलेंडर के अनुसार उनके यहां कुल 11 महीने होते हैं, इसलिए इनके पावन त्यौहार ईद एक एक महीने पीछे खिसकता रहता है और साल के बारहों महीने में ईद का त्योहार पड़ता है।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

यहीं कारण है कि रमजान कभी जाड़े में शुरू होते हैं तो कभी गर्मी में तो कभी बरसात में। इसी तरीके से ईद का त्योहार भी साल के हर महीने में पड़ता है। रमजान का महीना मुस्लिमों का सबसे पावन महीना माना जाता है।

23 अप्रैल को पड़ रही श्री कामदा एकादशी

इसी प्रकार 23 अप्रैल को श्री कामदा एकादशी पड़ रही है। इस दिन जगत का पालन करने वाले भगवान श्री हरि विष्णु जी की पूजा की जाती है।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

मान्यता है कि इस दिन पूजा करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं और भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है। वहीं 24 अप्रैल को वामन द्वादशी है। मान्यता है कि वामन द्वादशी वाले दिन व्रत रखने से पापों का नाश होता है और भक्त से भगवान अतयंत खुश होते हैं। इस दिन भगवान श्री कृष्ण और मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है।

27 अप्रैल को मनाई जाएगी हनुमान जयंती

हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल चैत्र महीने में हनुमान जयंती मनाई जाती है। ये हर साल अप्रैल में ही पड़ती है। इस बार हनुमान जी की जयंती 27 अप्रैल को पड़ रही है। बता दें कि हनुमान जी भक्त वत्सल है और वो भक्तों पर हमेशा दया दृष्टि बनाए रखते हैं।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

इसके साथ ही हनुमान जी अपने भक्तों की रक्षा भी करते हैं। उनकी भक्ति करने से सारे संकट खत्म हो जाते हैं। हनुमान जी को संकटमोचन भी कहा जाता है। इस दिन हनुमान जी को चोला और ध्वजा चढ़ाया जाता है।

25 से बजेगी घरों में शहनाई

गौरतलब है कि 4 अप्रैल को खरमास खत्म हो जाएगा। इशके बाद 19 अप्रैल को शुक्र का उदय होगा, इसके बाद चातुर्मास लग जाएगा।

पूरा अप्रैल महीना है त्योहारों वाला, 13 से नवरात्र तो 25 से शुरू हो रहे लगन, जानिए डिटेल

इस बीच कोई भी मांगलिक काम नहीं हो सकेंगे इसके बाद 25 अप्रैल से शुभ मुहूर्त बनेगा और मांगलिक काम शुरू हो जाएंगे। ये मांगलिक कार्य 25 अप्रैल से शुरू होंगे और जुलाई महीने की दो तारीख तक चलते रहेंगे। इसके बाद एक बार फिर से सारे मांगलिक कार्यक्रमों पर विराम लग जाएगा।

बिजली कंपनियों की मनमानी के खिलाफ उपभोक्‍ता परिषद ने खोला मोर्चा, जानिए पूरा मामला

Previous article

मुख्य सचिव ने की समीक्षा, कहा प्रोएक्टिव होकर कार्य करना होगा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured