resize कांग्रेस सांसद की मांग, राष्ट्रगान से ''सिंध'' शब्द को हटाकर ''उत्तर पूर्व'' जोड़ा जाए

नई दिल्ली। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रिपुन बोरा ने संसद में राष्ट्रगान में संशोधन का मुद्दा उठाते हुए राष्ट्रगान में बदलाव करने की मांग की है, जिसकों लेकर उन्होंने संसद के पटल पर एक प्रस्ताव भी रख दिया है। असम से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रिपुन बोरा ने राष्ट्रगान से ”सिंध” शब्द को हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रगान एक ऐसे राज्य को संदर्भित करता है जो साल 1947 में भारत के विभाजन के बाद पाकिस्तान में चला गया है इसलिए सिंध शब्द को राष्ट्रगान से हटा देना चाहिए।  कांग्रेस सांसद ने कहा कि सिंध की जगह उत्तर पूर्व शब्द को राष्ट्रगान में जोड़ा जाना चाहिए, ताकि भारत के सभी राज्यों का उल्लेख किया जा सके। resize कांग्रेस सांसद की मांग, राष्ट्रगान से ''सिंध'' शब्द को हटाकर ''उत्तर पूर्व'' जोड़ा जाए

उन्होने कहा कि उत्तर पूर्व भारत का अभिन्न अंग है, लेकिन इसके बावजूद राष्ट्रगान में भारत के इस क्षेत्र का कोई जिक्र नहीं है। बता दें कि इससे पहले इसी तरह की मांग साल 2016 में शिवसेना के सांसद अरविंद सांवत ने की थी। उन्होंने भी सिंध शब्द को राष्ट्रगान से हटाने की मांग की थी क्योंकि सिंध अब पाकिस्तान का एक अहम प्रांत बन चुका है। आपको बता दें कि 1911 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित रबींद्रनाथ टैगोर ने राष्ट्र गान जन गण मन लिखा था, उस दौरान भारत पश्चिमी बलूचिस्तान से लेकर सिलहट तक फैला हुआ था।

हालांकि, बंटवारे के बाद, सिंध, बलूचिस्तान, खैबर-पख्तूनख्वा और पंजाब के कुछ हिस्से पाकिस्तान में चले गए हैं। वहीं सिलहट, ढाका और बंगाल के अन्य भागों को पूर्वी पाकिस्तान को सौंप दिया गया जो कि बाद में बांग्लादेश बन गया। रिपुन ने अपनी मांग में यह भी लिखा है कि तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने संविधान सभा में 24 जनवरी 1950 को कहा था कि यदि सरकार चाहे तो वह राष्ट्रगान में बदलाव ला सकती है।

सुप्रीम कोर्ट में स्वर्गीय पिता के आधार बायोमेट्रिक डेटा वापस दिलाने की मांग

Previous article

वर्तमान सरकार द्रारा अच्छी योजना को बंद करना-दुर्भाग्यपूर्ण:

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.