7fbee545 a242 4e16 8de5 9d0907d424dc अगले साल भारत में होगा टेस्ला की इलेक्ट्रिक कार का परिचालन, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दी जानकारी
प्रतिकात्मक चित्र

नई​ दिल्ली। आज के समय में सरकार द्वारा देश को उन्नति और प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ाने के लिए अथक प्रयास किए जा रहे हैं। इसके साथ ही आज के दौर में इलेक्ट्रिक वाहनों पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है। क्योंकि इनको प्रयोग में लाने से प्रदूषण होने की संभावना पहल की अपेक्षा कम हो जाएगी। इसके साथ ही बता दें कि भारत में इलेक्ट्रिक वाहन स्टार्टअप कंपनी ने देश की पहली इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल KRIDN की डिलीवरी अब देनी शुरू कर दी है। इस बाइक को आधुनिकता से पूरी तरह लैंस किया गया है। इसी बीच आज अमेरिका की इलेक्ट्रिक कार क्षेत्र की प्रमुख कंपनी टेस्ला की तरफ से बड़ी खबर सामने आ रही है। कंपनी के अनुसार अगले साल भारत में इलेक्ट्रिक कार अपना परिचालन शुरू करेगी। कंपनी भारत में मांग के आधार पर विनिर्माण इकाई लगाने की संभावना तलाशेगी। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को यह जानकारी दी।

मांग के आधार कंपनी लगाएगी विनिर्माण कारखाना-

बता दें कि भारत के भारी-भरकम आठ लाख करोड़ रुपये के कच्चे तेल के आयात को कम करने के लिए केंद्रीय मंत्री गडकरी लगातार हरित ईंधन और इलेक्ट्रिक वाहनों पर जोर दे रहे हैं। टेस्ला इंक के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क ने अक्टूबर में घोषणा की थी कि कंपनी 2021 में भारतीय बाजार में उतरेगी। गडकरी ने कहा कि अमेरिका की वाहन क्षेत्र की दिग्ग्ज कंपनी टेस्ला अगले साल से भारत में अपनी कारों के लिए डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर खोलेगी। मांग के आधार पर कंपनी यहां अपना विनिर्माण कारखाना लगाने पर भी विचार करेगी। भारत में अगले पांच साल में दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक वाहन उत्पादक बनने की क्षमता है। इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि भारत ने 2030 तक कॉर्बन उत्सर्जन में 30 से 35 प्रतिशत की कटौती की प्रतिबद्धता जताई है। साथ ही भारत अपने आठ लाख करोड़ रुपये के कच्चे तेल के आयात को कम करने का प्रयास कर रहा है। ऐसे में हम हरित ईंधन और बिजली के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों पर ध्यान दे रहे हैं। गडकरी ने कहा कि भारत बिजली अधिशेष वाला देश है और यहां ई-मोबिलिटी समाधान के लाभ की संभावनाएं व्यापक हैं।

निजी कारों में इलेक्ट्रिक वाहनों का हिस्सा 30 प्रतिशत का लक्ष्य-

इसके साथ ही गडकरी ने कहा कि केंद्र का 2030 में निजी कारों में इलेक्ट्रिक वाहनों का हिस्सा 30 प्रतिशत करने का लक्ष्य है। इसके अलावा वाणिज्यिक कारों में इसे 70 प्रतिशत, बसों में 40 प्रतिशत और दोपहिया और तिपहिया में 80 प्रतिशत करने का लक्ष्य है। इसके लिए सरकार विभिन्न प्रोत्साहन देगी। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहन के लिए सरकार की योजना देशभर में सभी 69,000 पेट्रोल पंपों पर कम से कम एक ई-चार्जिंग कियोस्क लगाने की है।

कोरोना के नए स्ट्रेन से खौफ में भारत, ब्रिटेन से लौटे 6 लोग संक्रमित

Previous article

राहुल गांधी का विदेश दौरे पर जाना पड़ा महंगा, विपक्षी दलों ने खूब कसा तंज, जानें क्या कहा-

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.