featured देश राज्य

जम्मू-कश्मीरः बर्फीले तूफान का कहर, हिमस्खलन में दबे 10 लोग

हिम स्खलन जम्मू-कश्मीरः बर्फीले तूफान का कहर, हिमस्खलन में दबे 10 लोग

जम्मू-कश्मीरः लेह लद्दाख से भारी हिमस्खलन की खबर है। हिमस्खलन की चपेट में आकर कई वाहन बर्फ के नीचे दब गए हैं। बर्फ में दबे वाहनों में 10 सैलानियों के सवार होने खबर है। बर्फ में दबे 3 शवों को बाहर निकालने में कामयाबी मिली है,ब जबकि 7 लोगों के अब भी बर्फ में दबे होने की आशंका है। वहीं, इस घटना की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची भारतीय सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस की टीम राहत और बचाव अभियान में लगी हुई है। मौसम में हो रहे बदलाव के कारण राहत और बचाव कार्य में कई  समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

हिम स्खलन जम्मू-कश्मीरः बर्फीले तूफान का कहर, हिमस्खलन में दबे 10 लोग

इसे भी पढ़ें-हिमस्खलन की चपेट में आए दो विदेशी पर्यटक, एक की मौत

मालूम हो कि लद्दाख समेत पूरे जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फीले तूफान ने जन-जीवन को परेशान कर रखा है। माना जा रहा है कि शुक्रवार सुबह 7 बजे लद्दाख के खारदुंगला में बीच सड़क पर बर्फ का पहाड़ गिर गया। जिसकी चपटे में कई पर्यटक आ गए। खारदुंगला दर्रे पर यह दुनिया की सबसे ऊंची सड़क है, जहां तापमान माइनस 15 से भी नीचे पहुंच गया है। बर्फ में कई पर्यटकों के दबे होने की आशंका है। इसके अलावा बर्फीले तूफान में भी कई लोग फंसे हुए हैं। जिनको बचाने के लिए राहत एवं बचाव कार्य किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें-जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन की वजह से लापता हुए तीन जवान, तलाश अभियान जारी

आपको बता दें कि हिमस्खलन की चपेट में आए पर्यटकों की अभी तक कोई पहचान नहीं हो पाई है। मौसम विभाग ने कश्मीर घाटी और हिमाचल प्रदेश में अगले दो दिन में जमकर बर्फबारी जारी रहने का पूर्वानुमान लगाया है। सेना और पुलिस के जवान बर्फ में दबे लोगों को तलाश रहे हैं। इससे पहले 3 जनवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में हिमस्खलन में एक जवान शहीद हो हुआ था। जबकि एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया था। इस घटना के वक्त ये दोनों जवान जवान जम्मू कश्मीर के पुंछ सेक्टर के सब्जियान क्षेत्र स्थित सेना की पोस्ट में तैनात थे।

नए साल की शुरुआत में शहीद हुआ जवान सेना की 44RR का हिस्सा था। यह हिमस्खलन 3 जनवरी को सुबह चार बजे हुआ था। इस दौरान लांस नायक सपन मेहरा भारत-पाकिस्तान सीमा पर LoC के पास तैनात थे। वो हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा के रहने वाले थे। इसके अलावा हिमस्खलन में जो जवान घायल हुआ है, उसकी पहचान पंजाब के हरप्रीत सिंह के रूप में हुई है। उनको गंभीर हालत में आर्मी हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। हिमस्खलन के बाद सेना ने इलाके में राहत और बचाव अभियान जारी रखा।

इसे भी पढ़ें-सियासत की वजह से है भारत-पाकिस्तान के बीच दूरियां

कश्मीर घाटी में हिमस्खलन की घटनाएं हमेशा सामने आती रहती हैं। बीते वर्ष तंगधार, माछिल जैसे इलाकों में हिमस्खलन और बर्फीले तूफान ने कई लोगों की जान ले ली थी। हिमस्खलन और बर्फीले तूफान में जान गंवाने वालों मे भारतीय सेना के जवान भी शामिल हैं। सर्दी के महीनों में कश्मीर घाटी में तापमान -10 से लेकर -50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।

इसे भी पढ़ें-माछिल हिमस्खलन : बचाए गए पांचों जवानों की मौत

Related posts

#Metoo पर अब शाहरूख खान की इस को-एक्ट्रेस ने किया चौकाने वाला खुलासा

Rani Naqvi

बिहार के चमकी बुखर ने ली अब 108 की जान, देखें कहां हुई खामी

bharatkhabar

वाघा बॉर्डर पर एयरफोर्स को मिलेगा विंग कमांडर, अमृतसर के रास्ते पर फैमिली

bharatkhabar