फतेहपुर में टीका उस्तव रहा फीका

फतेहपुर: कोरोना के बढ़ रहे मामलों के बाद भी वैक्सिनेशन को लेकर लोगों में उत्साह नही दिख रहा है। इसलिए बुधवार को टीका उत्सव के दिन जो उल्लास दिखना चाहिए था वह नही दिखा। जिले के 11 केंद्रों पर सुबह से टीकाकरण शुरू हुआ। जिसमें सत्र की समाप्ति तक 3370 लोगों की अपेक्षा 1890 लोगों ने टीकाकरण कराया।

इस तरह जिले में 56 प्रतिशत वैक्सिनेशन हुआ। सबसे ज्यादा अर्बन पीएचसी में सौ प्रतिशत टीकाकरण हुआ जबकि हसवा में यह आंकड़ा 20 प्रतिशत भी नही पहुंच पाया।

डर से लोग नहीं लगवा रहे वैक्सीन 

असोथर पीएचसी 500 में 107, बहुआ 100 में 90, हसवा 320 में 60, भिटौरा 430 में 307, तेलियानी 90 में 71, अर्बन पीएचसी 410 में 410, धाता 410 में 162, अमौली 150 में 130, देवमई 220 में 114, खजुहा 350 में 269 और गोपालगंज 360 में 170 लोगों ने कोविड वैक्सीन लगवायी।

पीएचसी प्रभारी डॉक्टर उपेन्द्र ने बताया कि लोगों को अफवाहों पर ध्यान देने की जरूरत नही है सभी को पीएचसी-सीएचसी में जाकर टीकाकरण करवाना चाहिए। टीका लगने के बाद कुछ लोगों में बुखार और जुकाम के कुछ लक्षण दिखाई देने पर उन्होंने बताया कि यह सब सामान्य बातें है। जरूरी नही है कि टीकाकरण से ही बुखार आया हो उसके अन्य कारण भी हो सकते हैं। इसलिए बिना किसी डर के लोगों को टीकाकरण करवाना चाहिए।

शहरों की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्र रहे कमजोर

टीकाकरण को लेकर शहर की अपेक्षा गांवों में लोगों के बीच उत्साह सुस्त रहा। आज भी लोग वैक्सिनेशन को लेकर तरह तरह की अफवाह फैला रहे हैं। जिससे गांव के लोग ऐसे अफवाहों पर फंस जा रहे हैं। हालांकि जो भी समझदार लोग हैं वह वैक्सीन सेंटर में जा कर टीकाकरण करवा रहे हैं।

“यह सही है कि ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीन को लेकर जागरूकता कम है। साथ ही लोग अफवाहों पर जल्दी भरोसा कर रहे हैं। ऐसे में हम लोग आशा बहू के जरिए लोगों को सेंटर तक लाने के लिए विशेष अभियान चलाएंगे। जिससे लोगों के अंदर वैक्सीन का डर न रहे।”

डॉक्टर सुरेश
अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी

Fatehpur: सैकड़ों बीघा फसल को जलता देखते रहे ग्रामीण, नहीं पहुंची फायर ब्रिगेड

Previous article

फतेहपुर: चोरी करने से पहले सामान को करता था सेनेटाइज्ड, इस तरह पकड़ा गया चोर

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured