featured देश राजस्थान

गहलोत सरकार के पायलट ने किये ब्रेक फेल, गिर जाएगी गहलोत सरकार ?

sachin pilot ashok gehot गहलोत सरकार के पायलट ने किये ब्रेक फेल, गिर जाएगी गहलोत सरकार ?

राजस्थान सरकार पर लगातार खतरा मंडराता जा रहा हैय, जिसकी वजह से अशोक गहलोत सरकार जाते हुए दिख रही है। जिस तरह का राजस्थान में सियासी उठा-पटक देखने को मिल रही है। उसे देखकर लग रहा है कि, मध्य प्रदेश की तरह राजस्थान भी कांग्रेस के हाथ से चला जाएगा। क्योंकि दोनों ही जगह कांग्रेस के अपने बगावत पर उतर आये हैं।राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने दावा किया था कि 30 कांग्रेस विधायक उनके समर्थन में हैं और राज्य की गहलोत सरकार अल्पमत में है। इसके साथ पायलट ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मनमुटाव को भी साफ कर दिया। कहा कि वे विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे। हालांकि, राजस्थान कांग्रेस के इंचार्ज अविनाश पांडे ने दावा किया कि हमारे पास 109 विधायकों के समर्थन पत्र हैं। गहलोत सरकार बहुमत में है।

Sachin Pilot गहलोत सरकार के पायलट ने किये ब्रेक फेल, गिर जाएगी गहलोत सरकार ?
लेकिन सचिन पायलट के तेवरों को देखरक नहीं लग रहा है कि, वो ज्यादा दिन सरकार में रूकने वाले हैं।
किसी भी तरह को जोखिम ना उठाते हुए कांग्रेस ने अपने विधायकों को बसों द्वारा रिसोर्ट में शिफ्ट कर दिया कर दिया और किसी भी तरह के तख्तापलट के प्रयासों से दूर कर दिया. कांग्रेस के कुछ नेता सचिन पायलट के पास भी पहुंचे, जो उन्हें किसी तरह मनाने की कोशिश में जुटे हैं।
फिलहाल तो अशोक गहलोत ने अपना दम दिखा दिया है और पायलट की बगावत के बावजूद 100 से ज्यादा विधायकों का समर्थन दिखाकर सरकार बचा ली है। लेकिन सचिन पायलट की नाराजगी अभी खत्म नहीं हुई है। प्रदेश के दोनों बड़े नेताओं के इसी टकराव को खत्म करने के लिए अब मोर्चा प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभाल लिया है।

क्या कह रहा राजस्थान का सियासी समीकरण?
पायलट का दावा है कि उनके संपर्क में 30 से ज्यादा विधायक हैं। इसे सही मानें तो गहलोत सरकeर अल्पमत में आ जाएगी। कांग्रेस के 107 में से 30 विधायक इस्तीफा देते हैं तो सदन में विधायकों की संख्या 170 हो जाएगी।
ऐसे में बहुमत के लिए 86 विधायकों की जरूरत होगी। 30 के इस्तीफे के बाद कांग्रेस के पास 77 विधायक बचेंगे। एक आरएलडी विधायक पहले से उनके साथ है। कांग्रेस की कुल संख्या 78 होगी। यानी बहुमत से 8 कम। उधर, आरएलपी के 3 विधायक मिलाकर भाजपा के पास 75 विधायक हैं। सरकार बनाने के लिए भाजपा को निर्दलीय तोड़ने होंगे। प्रदेश के 13 विधायकों में फिलहाल 10 कांग्रेस समर्थक हैं। अगर इसमें से भाजपा 8 विधायक अपनी तरफ कर ले तो सरकार बना सकती है।

https://www.bharatkhabar.com/category/jammu-and-kashmir/
इन्हीं आंकड़ो को देखते हुए कांग्रेस के बड़े नेता राजस्थान सरकार बचाने के लिए उतर आये हैं। फिलाहल राजस्थान में सस्पेंस बरकरार है। लेकिन जिस तरह से पायलट ने बगावत की है उससे कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है।

Related posts

यूक्रेन में फंसे छात्रों की हालत के लिए ममता ने मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार, कहा- सरकार की गलती

Saurabh

रुड़की: बदमाशों ने अधिवक्ता की गोली मारकर की हत्या, इलाके में सनसनी

pratiyush chaubey

उत्तरी केन्या में देशी बम से हुए विस्फोट में पांच जवानों की मौत

rituraj