Breaking News featured देश धर्म

रुद्राक्ष धारण करते समय बरतें ये सावधानियां वरना हो सकता है बुरा असर

rudraksh रुद्राक्ष धारण करते समय बरतें ये सावधानियां वरना हो सकता है बुरा असर
  • अध्यात्म डेस्क || भारत खबर

कहते हैं कि रुद्राक्ष Rudraksha को महाकाल का अंश माना जाता है महादेव की पूजा करते हुए रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति के जीवन में किसी भी तरह की बाधा या परेशानी जल्दी से आने का दुस्साहस नहीं करते। आज हम आपको रुद्राक्ष Rudraksha से जुड़ी हुई कुछ जरूरी जानकारियां यहां देंगे जिसे हर उस व्यक्ति को जानना आवश्यक है जो रुद्राक्ष को धारण करता है।

  • सबसे जरूरी बात तो यही है कि रुद्राक्ष Rudraksha करने के बाद ही धारण करना चाहिए। रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को नियमों के साथ धारण करने में कोई बाधा हो जाती है तो रुद्राक्ष नुकसान देना शुरू कर देता है।
  • रुद्राक्ष को धारण करते समय पवित्रता का विशेष ख्याल रखना चाहिए मन और तन दोनों पवित्र होने चाहिए। साथ ही साथ वह स्थान भी बेहद पवित्र होना चाहिए जहां पर आप इसे धारण कर रहे हैं। 
  • ग्रहण, संक्रांति, अमावस्या और पूर्णमासी आदि पर्वों और पुण्य दिवसों पर रुद्राक्ष अवश्यस धारण करना चाहिए।
  • श्मशान स्थल तथा शवयात्रा के दौरान भी रुद्राक्ष Rudraksha धारण नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही जब किसी के घर में बच्चे का जन्म हो उस स्थल पर भी रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए।
  • प्रातःकाल रुद्राक्ष को धारण करते समय तथा रात में सोने के पहले रुद्राक्ष Rudraksha उतारने के बाद रुद्राक्ष मंत्र तथा रुद्राक्ष उत्पत्ति मंत्र का नौ बार जाप करना चाहिए।
  • यौन सम्बंधों के समय भी रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए। स्त्रियों को मासिक धर्म के समय रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए।
  • रुद्राक्ष की प्रवृत्ति गर्म होती है। कुछ लोग इसको नहीं पहन सकते क्योंकि इसके पहनने के उनकी त्वचा पर एलर्जी के से चिह्न उभर आते हैं। उनके लिए रुद्राक्ष Rudraksha को मंदिर में ही रखा जा सकता है तथा नियमित रूप से आराधना की जा सकती है।रुद्राक्ष को सूती धागे में या सोने में या फिर चांदी की चेन में पहन सकते हैं।
  • रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति को मांसाहारी भोजन का त्याग कर देना चाहिए तथा शराब/एल्कोहल का सेवन भी नहीं करना चाहिए।
  • रुद्राक्ष को हमेशा साफ रखें तथा मुलायम ब्रश की सहायता से समय समय पर रुद्राक्ष को साफ करते रहें। कभी-कभी रुद्राक्ष की तेल मालिश भी कर दें। कड़वे तेल जैसे सरसों या तिल का तेल इसके लिए प्रयोग किया जा सकता है।
  • सोते समय रुद्राक्ष धारण न करें क्योंकि इस दौरान रुद्राक्ष दबाव से टूट या चटक भी सकता है। रुद्राक्ष Rudraksha को तकिए के नीचे रखा जा सकता है।
  • जिस रुद्राक्ष Rudraksha माला का हम जाप में प्रयोग करते हैं उसको शरीर पर धारण नहीं करना चाहिए।

मुझे उम्मीद है कि आपको यह तमाम नियम पता चल गए होंगे जो रुद्राक्ष के पहनने के दौरान जरूरी हैं। अगर आपको इसके अलावा भी कोई अन्य नियम या जानकारी है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर भेजें या फिर हमारी ईमेल आईडी पर भी आप हमें सीधे मेल कर सकते हैं।

 

Related posts

नक्सलियों ने उड़ाया रेलवे ट्रैक, बाधित हुआ परिचालक

Rani Naqvi

दिल्ली विश्वविद्यालय को जल्द मिलेगा नया कुलपति, अमल में आएगी नई शिक्षा नीति

Nitin Gupta

यूपी में ‘भाजपा गद्दी छोड़ो’ अभियान चलाएगी कांग्रेस, इस दिन होगा बड़ा प्रदर्शन

Shailendra Singh