September 28, 2022 8:31 am
featured यूपी

कल्याण सिंह के जीवन से प्रेरणा लें भाजपा कार्यकर्ता : अमित शाह

कल्याण सिंह के जीवन से प्रेरणा लें कार्यकर्ता

लखनऊ। केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अमित शाह ने सोमवार को अलीगढ़ के अतरौली पहुंचकर ‘बाबूजी के नाम से विख्यात उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं लोकप्रिय जन-नेता कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन किये और उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।  कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि कल्याण सिंह के जीवन से भाजपा कार्यकर्ता प्रेरणा लें।

भाजपा ने हमेशा संघर्षरत रहने वाला बड़ा नेता खोया 
अमित शाह ने कहा कि हम विश्वास दिलाते हैं कि हम सभी पार्टी कार्यकर्ता उत्तर प्रदेश के गरीब और पिछड़ों के जीवन के उत्कर्ष के लिए लगातार संघर्षरत रहेंगे। कल्याण सिंह का इस दुनिया से चले जाना भारतीय जनता पार्टी के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। उनके जाने से भारतीय जनता पार्टी ने अपने एक दिग्गज और आम जन के लिए हमेशा संघर्षरत रहने वाला बड़ा नेता खोया है तथा देश भर के गरीब और पिछड़ों, विशेषकर उत्तर प्रदेश के गरीब और पिछड़ों ने अपना एक हितचिंतक गंवाया है।

केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि कल्याण सिंह श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन के बड़े नेता रहे। श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन के लिए सत्ता त्याग करने में उन्होंने तनिक भी नहीं सोचा। जब श्रीरामजन्मभूमि का शिलान्यास हुआ, उसी दिन मेरी बाबू जी से बात हुई थी। उन्होंने बड़े हर्ष और संतोष के साथ बताया कि श्रीरामजन्मभूमि के शिलान्यास से और भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त होने से उनके जीवन का लक्ष्य आज पूरा हो गया है।

उत्तर प्रदेश के विकास के प्रति समर्पित रहा बाबूजी का संपूर्ण जीवन 
अमित शाह ने कहा कि बाबूजी का संपूर्ण जीवन उत्तर प्रदेश के विकास के प्रति समर्पित रहा, उत्तर प्रदेश के गरीब लोगों के प्रति समर्पित रहा। वे सदैव उत्तर प्रदेश को देश का सबसा अच्छा प्रदेश बनाने के लिए कार्यरत रहे। इतने गरीब तबके से उठ कर इतना बड़ा नेता बनना, विचारधारा के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए जीवन भर संघर्षरत रहना और गरीब वर्ग के लोगों के उत्थान के लिए हमेशा समर्पित भाव से काम करना – यह हम सभी भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरणा के अदम्य स्रोत हैं।
केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि बाबूजी के जाने से देश के राजनीतिक नभ में और विशेषकर भारतीय जनता पार्टी के लिए एक बड़ी रिक्तता निर्मित हुई है। मैं मानता हूँ कि इस रिक्तता की एक लंबे समय तक भरपाई मुश्किल होगी। काफी समय से बाबूजी के सक्रिय राजनीति से दूर रहते हुए भी जिस प्रकार का जनसैलाब बाबूजी को श्रद्धांजलि देने के लिए यहाँ आये हैं, विशेषकर युवाओं को बड़ी संख्या में जिस तरह मैं आज यहाँ देख रहा हूँ, यही बताता है कि कल्याण सिंह जी ने उनके जीवन में और उत्तर प्रदेश के सार्वजानिक जीवन में किस तरह अपनी अमिट छाप छोड़ी है।

Related posts

त्यौहार के सीजन में ऐसे पता करें मिलावटी और सही दूध में फर्क

Aditya Mishra

गोमांस पर बैन की मांग करना अजमेर दरगाह के दीवान को पड़ा भारी

shipra saxena

नहीं कराऊंगी आधार से लिंक, बंद कर दो फोन- ममता बनर्जी

Pradeep sharma