featured यूपी

मां को ज़ागीर बताने वाले मुनव्वर राना के बेटे ने पुश्तैनी जमीन की चाह में लिखी थी फायरिंग की पटकथा

tabrez

लखनऊ : किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकां आई, मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में मां आई….उर्दू जुबां के अदब, नाज़कत, नफासत और तहज़ीब के मशहूर शायर ज़नाब मुनव्वर राना साहब ने अपनी नज़्म के जरिए देश दुनिया में शायरी प्रेमियों को ही नहीं युवाओं ,महिलाओं ,उम्र दराज को मां की अहमियत से रूबरू कराया। मां को सिर आंखों पर बैठाने वाले मुनव्वर राना साहब व उनका पूरा परिवार तबरेज राना की वजह से सुर्खियों में है।

क्योंकि, पुश्तैनी ज़मीन की चाहत में तबरेज राना ने खुद का जानलेवा हमला करने की स्क्रिप्ट दिख दी। फिलहाल पुलिस टीम तबरेज को गिरफ्तार करने के लिए लगातार दबिश दे रही है। तो वहीं मुनव्वर राना और उनका परिवार यूपी पुलिस पर गलत दिशा में जांच करने का आरोप लगा रहा है।

सीसीटीवी में आया सच

गौरतलब है कि 28 जून को यूपी के रायबरेली जनपद में मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना ने पुलिस को सूचना दी थी। उन पर कुछ अज्ञात बदमाशों ने फायरिंग कर दी। यह घटना रतापुर के पेट्रोल पंप पर हुई थी। जब तबरेज पेट्रोल पंप में पेट्रोल भरवाने के लिए रुका था। तभी दो बाइक सवार बदमाशों ने उस पर जानलेवा हमला कर दिया।

तहरीर के आधार पर कोतवाली पुलिस ने अज्ञात बदमाशों पर एफआईआर दर्जकर जांच शुरु कर दी। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी की फुटेज में खंगालनी शुरु कर दी। इसी बीच पुलिस के हाथ एक फुटेज मिली। इसके आधार पता चला कि तबरेज राना पर जो हमला हुआ था, वह उसने स्वयं कराया था। इस कहानी का राइटर कोई और नहीं बल्कि मुनव्वर राना का बेटा तरबेज राना ही है।

तबरेज ने साजिश के तहत खुद पर अपने साथियों से गोली चलवाई है। इस मामले में चार आरोपितों को अरेस्ट कर उसने पूछताछ की तो पूरी कहानी से पर्दा हट गया। इसके बाद पुलिस ने हमलावारों को जेल की चाहर दीवारी में भेज दिया।

रायबरेली जनपद के एसपी श्लोक कुमार ने बताया कि तबरेज राना की यह प्लानिंग थी। घटना के बाद एसओजी और क्राइम ब्रांच टीम हमलावारों की तलाश में जुट गई थी। पुलिस टीम ने क्षेत्र में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो चौंका देने वाली हकीकत समाने आई। जिस वक्त तबरेज पर गोलियां चली तो वह कार ड्राइव कर रहा था । जबकि तबरेज ने पुलिस को बताया था कि घटना के वक्त उसके साथ एक दूसरा व्यक्ति भी था। लेकिन सीसीटीवी फुटजे में वह अकेला दिख रहा था।

चाचा को फंसाने की थी साजिश

दरअसल, फरवरी 2021 में तबरेज ने अपनी पुश्तैनी जमीन का एक हिस्सा बेच दिया था। जबकि पूरी जमीन में मुनव्वर राना और उनके भाईयों की हिस्सेदारी है। उस वक्त जमीन बेचे जाने पर तबरेज के चाचा ने नाराजगी भी जाहिर की थी। जांच में स्पष्ट हुआ कि, तबरेज ने अपनी साथी हलीम और सुल्तान अली के जरिए खुद पर हमला कराया था। जो उसकी सोची समझी साजिश थी। जिसमें वह अपने चाचा पर जानलेवा हमला करवाने का मुकदमा दर्ज करा देगा। इसके बाद वह पुश्तैनी को छोड़कर चले जाएगें।

विवादों में आ चुका है नाम

बताते चलें कि यह कोई पहला मसला नहीं है, जिसमें मुनव्वर राना का नाम सुर्खियों आया है। इससे पहले भी मुनव्वर साहब का नाम विवादित बयानबाजी के घेरे में आया है। उन्होने बीजेपी के वरिष्ठ प्रवक्ता पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था कि भारत में 35 करोड़ इंसान 100 करोड़ जानवर रहते है।

जो सिर्फ वोट देने का काम आते हैं। इसके बाद फ्रांस में पैगंबर साहब के विवादिक कार्टून के बाद कई हत्याएं की गई थी। इसी कड़ी में हमलावरों एक महिला की गला रेतकर हत्याकर दी इसके अलावा दो लोगों को चाकू मारकर मौत के घाट उतार दिया था।

इस पर मुनव्वर साहब ने कहा था कि अगर कोई हमारी मां का या फिर हमारे बाप का ऐसा कार्टून बना दे तो हम उसे मार देगें। तो वहीं सीएए-एनआरसी प्रोटेस्ट पर मुनव्वर राना ने बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि बीजेपी का मकसद मुल्क को हिंदू राष्ट्र बनाना है। कुछ इस तरह के बयान से मुनव्वर साहब काफी सुर्खियों में रहे।

Related posts

कोरोना म्युटेंट के अध्ययन के लिए सरकार की विशेष योजना, टीम 9 की बैठक में फैसला

Aditya Mishra

नोएडा में बिल्डरों को भूमि आवंटन पर रोक

bharatkhabar

उत्तराखंड के सात जिलों में आज हो सकती है भारी बारिश और बर्फबारी, मौसम विभाग ने लगाया अनुमान 

Rani Naqvi