सुप्रीम कोर्ट के चार जजों के प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बाद उपजा विवाद सुलझा

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार जजों के प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बाद उपजा विवाद अब सुलझ गया है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के सभी जज जब नियत समय साढ़े दस बजे सुनवाई करने नहीं बैठे तो अटकलों के बीच खबर मिली की जजों के बीच मामला सुलझ गया है। दरअसल सुनवाई से पहले सभी जज चाय पर मिले। इस दौरान चीफ जस्टिस, जस्टिस चेलमेश्वर एवं सभी जज एक दूसरे से मिले। बताया जा रहा है कि इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के अधिकारी, रजिस्ट्रार और दूसरे सुरक्षाकर्मियों को कमरे से बाहर भेजकर सभी जजों ने आपस में चर्चा की। इसी वजह से कोर्ट की रोजाना सुनवाई भी 10 मिनट की देरी से शुरू हुई। अटार्नी जनरल के. वेणुगोपाल ने कहा कि जजों के बीच का विवाद सुलझ गया है। आज से चारों जजों ने काम शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि मामला सुलझ गया है, अब कोई विवाद नहीं है। हालांकि विवाद कैसे सुलझा, इस पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की।

Supreme Court judge Conflict
Supreme Court judge Conflict

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट शुरू होते ही वकील आरपी लूथरा ने कार्रवाई करने की मांग की है। आज जब चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच सुनवाई करने के लिए बैठी तो वकील लूथरा ने उन चारों जजों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि जजों को सार्वजनिक रूप से अपनी बात नहीं कहनी चाहिए थी। लूथरा के पूरे वक्तव्य के दौरान चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा शांत रहे। जब लूथरा ने अपनी बात खत्म कर ली तो चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा मुस्कुराए। चीफ जस्टिस ने न तो उन्हें रोका और न ही कुछ पूछा।

वहीं सुप्रीम कोर्ट में जजों के काम संभालने के बाद बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने भी प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि सभी जजों के बीच मामला सुलझ गया है। बीसीआई के अध्यक्ष मनन मिश्रा ने कहा कि अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि मामला सुलझ गया है। जजों के आपस की बात थी जो सुलझा लिया गया है। सभी जजों ने कोर्ट में सुनवाई शुरू कर दी है। मनन मिश्रा ने कहा कि न्यायपालिका में अब सब कुछ ठीक चल रहा है। जज लोया की मौत के मामले पर मनन मिश्रा ने कहा कि उनका परिवार उनकी मौत की न्यायिक जांच नहीं चाहता है।

साथ ही मनन मिश्रा ने कहा कि बार काउंसिल ने कल 15 जजों से मुलाकात की थी। कल चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने हमें आश्वस्त किया था कि मामला जल्द ही सुलझ जाएगा। उन्होंने कहा कि हम किसी जज के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। चार जजों को एंटी-नेशनल कहने वाले सवाल पर मनन मिश्रा ने कहा कि जजों को एंटी-नेशनल कहने वाले खुद एंटी-नेशनल हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने विवाद पैदा करने की कोशिश की लेकिन वे कामयाब नहीं रहे।