विरोध-प्रदर्शन के चलते ईरान में अंग्रेजी पढ़ाने पर लगी रोक

विरोध-प्रदर्शन के चलते ईरान में अंग्रेजी पढ़ाने पर लगी रोक

तेहरान। ईरान में जारी विरोध-प्रदर्शन के मद्देनजर वहां की सरकार ने स्कूलों में अंगेजी पढ़ाने पर रोक लगा दी है। यह जानकारी सोमवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। ईरानी मीडिया के मुताबिक ईरान सरकार का मानना है कि अंग्रेजी शिक्षा संस्कृति पर हमला कर रही है और देश के नौनिहालों को खिलाफ भड़का रही है। इसी वजह से इस विदेशी भाषा को पढ़ाए जाने पर रोक लगा दी गई है। यह फैसला उस समय आया जब कई इस्लामिक नेताओं ने आगाह किया कि शुरुआती शिक्षा के दौरान अंग्रेजी भाषा पढ़ाए जाने से उनके देश में पाश्चात्य “सांस्कृतिक घुसपैठ” हो रही है।

iran
Iran

बता दें कि ईरान के एक वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी ने कहा कि इस्लामिक नेताओं के इस बयान के बाद प्राथमिक स्तर पर अंग्रेजी पढ़ाने जाने पर रोक लगा दी गई है। उच्च स्तरीय शिक्षा समिति के प्रमुख मेहदी नाविद-अधम ने कहा, “सरकारी या गैर-सरकारी स्कूलों के आधिकारिक पाठ्यक्रम में अंग्रेजी पढ़ाया जाना अब नियम के खिलाफ होगा। प्राथमिक स्तर पर ऐसी शिक्षा दिए जाने से शुरुआती स्तर पर छात्र ईरानी संस्कृति को दूर होते जाएंगे।

वहीं विदित हो कि ईरान के स्कूलों में अभी तक अंग्रेजी शिक्षा की शुरुआत 12 से 14 साल के बीच हुआ करती थी, लेकिन कुछ प्राइमरी स्कूल बेहद कम उम्र में ही अंग्रेजी शिक्षा की शुरुआत कर देते थे। मिडिल स्कूल के कुछ बच्चे अपने स्कूल में पढ़ाई करने के बाद किसी निजी भाषा संस्थान में अंग्रेजी की पढ़ाई किया करते थे, जबकि संपन्न घरों के ज्यादातर बच्चे गैर-सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी शिक्षा हासिल किया करते थे।