January 29, 2022 4:00 pm
featured यूपी

अगर आप भी शुरू करने जा रहे हैं StartUp तो दुर्गेश की इन बातों का जरूर रखें ख्याल

अगर आप भी शुरू करने जा रहे हैं StartUp तो दुर्गेश की इन बातों का जरूर रखें ख्याल

श्रवण कुमार तिवारी, लखनऊ: भारत खबर.कॉम लगातार पाठकों को स्टार्टअप की नई-नई जानकारियों से अवगत करा रहा है। इसी कड़ी में आज हम आपको स्टार्टअप का मूल मंत्र बताएंगे। किसी भी स्टार्टअप के लिए जरुरी है अवलोकन यानी Observation। ऑब्जरवेशन की मदद से स्टार्टअप की थीम मिल जाती है और स्टार्टअप कामयाब होने की संभावना बढ़ जाती है। यह कहना है दुर्गेश सिंह का।

ये भी पढ़ेंः कोरोना काल में बढ़ा युवाओं में स्टार्टअप का क्रेज, अकेले यूपी में 4400 से ज्यादा हुए रजिस्ट्रेशन

दुर्गेश वो शख्स हैं जिन्होंने 2013 में स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी की तलाश शुरू की। टेक्निकल ज्ञान न होने के कारण वे मार्केटिंग क्षेत्र में उतरे। काम के दौरान वे कई लोगों से मिले और समाज की कमियों को ऑब्जर्व किया। बता दें कि दुर्गेश (29) वर्तमान समय में Adbox Studio नामक डिजिटल मार्केटिंग कंपनी चला रहे हैं।

ऑब्जरवेशन के बिना स्टार्टअप अधूरा: दुर्गेश

दुर्गेश का मानना है की स्टार्टअप के लिए ऑब्जरवेशन जरुरी है। ऑब्जरवेशन से नई बातें निकल कर सामने आती हैं चाहे वो खामियां ही क्यों न हो। इन खामियों के बारे में जानने के बाद ही आप अपने आईडिया पर कम कार पाएंगे और परिपक्व तरीके से उसे इम्प्लीमेंट कर पाएंगे।

ऑब्जरवेशन के लिए सामाजिक होना जरुरी

वहीं दुर्गेश का कहना है कि ऑब्जरवेशन के लिए सामाजिक होना बहुत जरुरी है। इसके पीछे का तर्क देते हुए उन्होंने बताया कि जब तक समाज में रहने वाले अलग-अलग वर्गों की समस्याओं को नहीं समझा जाएगा तब तक उसका समाधान नहीं निकल पाएगा। उन्होंने कहा है कि एक अच्छे स्टार्टअप के लिए आपके पास वो सारा डाटा होना जरुरी है जिससे स्टार्टअप की नींव मज़बूत हो। उन्होंने यह भी कहा है कि कमियों को ढूंढ कर उसपर काम करना ही एक अच्छे स्टार्टअप के विचारों को उत्पन्न करता है।

स्टार्टअप और बिजनस के फर्क का ज्ञान भी जरुरी

दुर्गेश ने भारत खबर.कॉम से बातचीत में बिजनस और स्टार्टअप के बीच का फर्क समझाया। उन्होंने बताया कि, बिजनस वो है जो बरसों से किया जा रहा है लेकिन, स्टार्टअप विचारों से बनता है। स्टार्टअप में प्रतिद्वंधी की कमी होती है क्योंकि जरुरी नहीं कि आपके विचारों से दूसरा भी वही काम कर सके जो आप कर रहे हैं। आपकी सोचकर आईडिया लाये हैं और उसपर काम कर रहे हैं। अगर आपको अपनी सोच पर भरोसा है तो सफलता निश्चित ही आपको मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़ेंः स्टार्टअप और बिजनेस के बीच का समझ गए ये अंतर तो बदल जायेगी जिंदगी

 भारत खबर.कॉम अपने अगले स्टार्टअप अंक में पाठकों को दुर्गेश सिंह के स्टार्टअप से भी रूबरू करवाएगा।

Related posts

बंगाल चुनाव 2021: बीजेपी ने जारी की अपने उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को टॉलीगंज से दिया टिकट

Sachin Mishra

शौचालय की जाली तोड़कर फरार हुआ किशोर, आगरा जिले के किशोर न्यायालय में करना था पेश

Aman Sharma

फतेहपुर: ईंट भट्ठों पर नहीं पड़ रही प्रशासन की नजर, अब डीएम ने दिया ये आदेश        

Shailendra Singh