फारुक अब्दुल्ला का बयान बोले, चुनाव तय करेंगे कि कश्मीर गरिमा के साथ संघ का हिस्सा रह पाएगा या नहीं

फारुक अब्दुल्ला का बयान बोले, चुनाव तय करेंगे कि कश्मीर गरिमा के साथ संघ का हिस्सा रह पाएगा या नहीं

श्रीनगर। नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि यह लोकसभा चुनाव तय करेंगे कि जम्मू-कश्मीर “गरिमा के साथ संघ का हिस्सा रह पाएगा या नहीं।” श्रीनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे फारूक ने गांदरबल में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों को देश की धर्मनिरपेक्षता, अखंडता और एकता को बनाए रखने के लिए मतदान करना है। उन्होंने कहा, “यह चुनाव तय करेंगे कि क्या जम्मू-कश्मीर राज्य गौरव के साथ संघ का हिस्सा बना रह सकता है। राज्य के लोग अपनी पहचान की सुरक्षा के लिए बैलट के माध्यम से भाजपा और यहां के उसके साथियों से सीधे लड़ रहे हैं।”
इस बीच, नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला शनिवार को दावा किया कि जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खतरे में है। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि 2020 तक राज्य के संवैधानिक सुरक्षा उपायों को खत्म करने के उसके “स्पष्ट और बलशाली वचनों” से उसके “दुर्भावनापूर्ण एजेंडे” का पता चलता है। अनंतनाग के डाक बंगला इलाके में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने आरोप लगाया कि पिछली पीडीपी-भाजपा सरकार ने राज्य को अराजकता में डाल दिया है।