VIDEO: केदार नाथ बद्रीनाथ में भीषण बर्फ़बारी, भूस्खलन के चलते रुकी यात्रा

मौसम विभाग के अनुसार देश के कई हिस्सों में भयंकर तूफान के आने के आसार जताए गए हैं। वहीं उत्तराखंड में बिगड़े मौसम के चलते लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। खराब मौसम के चलते हवाई यात्रा रोक दी गईं हैं, इस वजह से भारी संख्या में श्रद्धालू केदारनाथ और बद्रीनाथ में फंस गए हैं। बता दें कि केदारनाथ और बद्रीनाथ में भूस्खलन भी शुरू हो गया है।

 

 

इस बिगड़े मोसम के चलते उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत भी यहां फंस गए हैं। यहां हो रही लगातार बारिश और बर्फबारी के चलते हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर पाने की वजह से हवाई यात्राएं बंद कर दी गई हैं। ऐसे में इन नेताओं को मौसम साफ होने का इंतजार है। मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुई को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ जाने वाले यात्रियों को सोनप्रयाग व गौरीकुंड में रोक दिया है।

 

केदारनाथ में लगातार बारिश और बर्फबारी के चलते तीन ईंच से अधिक बर्फ जम गई है। सोमवार को केदारनाथ में सुबह से ही मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा। सुबह 10 बजे के बाद शुरू हुई बारिश और बर्फबारी करीब साढ़े पांच घंटे तक जारी रहा। मौसम खराब होने बावजूद बाबा केदार के भक्तों के उत्साह में कमी नहीं आई। श्रद्धालु बरसाती ओढ़कर अपनी बारी का इंतजार करते रहे।

केदारनाथ में खराब मौसम के चलते संचालित हेलीकॉप्टर सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं। चारधाम समेत उत्तराखंड के गढ़वाल कुमांऊ मंडल के कई इलाकों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। हेमकुंड में भी बारिश की वजह से यात्रा की तैयारियाों का काम ठप पड़ा है। बता दें कि मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए देहरादून के ज्यादातर इलाकों में सोमवार देर रात मौसम का मिजाज बिगड़ा और तेज हवाएं चली। इस दौरान बिजली आपूर्ति को ऐहतियातन बंद कर दिया गया। तेज हवाओं के बाद उत्तराखंड के अधिकांश हिस्सों में बारिश शुरू हो गई। किसी भी क्षेत्र में अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। देहरादून, उत्तरकाशी, टिहरी, रुद्रप्रयाग, चमोली, हरिद्वार, अल्मोड़ा और बागेश्वर में 12वीं तक स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया है।

 

वहीं कल देर रात आए तूफान के बाद मौसम विभाग ने उत्तराखंड में एक बार फिर से लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है मौसम विभाग ने कहा है कि भले ही देर रात में पूर्व अनुमान के अनुसार तेज हवा और बारिश हुई हो लेकिन अभी भी लोगों को तेज बारिश और आंधी तूफान से दो-चार होना पड़ सकता है।