Breaking News देश भारत खबर विशेष

कौशल विकास व आईआईएम बेंगलोर ने शुरू किया महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय फेलोशिप कार्यक्रम

fellowship scholler research कौशल विकास व आईआईएम बेंगलोर ने शुरू किया महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय फेलोशिप कार्यक्रम

नई दिल्ली। जिला स्‍तर पर कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने आज आईआईएम बेंगलोर के साथ मिलकर दो वर्षीय महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय फेलोशिप कार्यक्रम (एमजीएनएफ) चलाने के लिए समझौते पर हस्‍ताक्षर किए।

इस अवसर पर उच्‍च शिक्षा विभाग के सचिव पी. सुब्रहमण्‍यम, कौशल विकास और उद्यमिता सचिव डॉ. के पी कृष्‍णन, आई आई एम बेंगलोर के निदेशक जी. रघुराम, वर्ल्‍ड बैंक के भारत में निदेशक जुनैद अहमद और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के अधिकारी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम का विकास कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री डॉ. महेन्‍द्रनाथ पांडे के कुशल दिशानिर्देश और नेतृत्‍व के अंतर्गत किया गया है जिन्‍होंने मंत्रालय में शामिल होने के बाद से कौशल विकास को जिला स्‍तर पर ध्‍यान केंद्रित करने पर कार्य किया।

इस फेलोशिप का उद्देश्‍य राष्‍ट्रीय, राज्‍य और जिला स्‍तर पर क्रियान्‍वयन के लिए मानव संसाधन के उपलब्‍ध न होने की चुनौती का सामना करना है।

एमजीएनएफ कार्यक्रम के अंतर्गत जिला प्रशासन के साथ जमीनी स्‍तर पर प्रायोगिक अनुभव देने की व्‍यवस्‍था की गई है। कार्यक्रम को प्रायोगिक स्‍तर पर गुजरात, कर्नाटक, मेघालय, राजस्‍थान, उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड के 75 जिलों में शुरू किया गया है। कार्यक्रम के अंतर्गत योग्‍य फेलो को 21 से 30 वर्ष आयु वर्ग में भारतीय नागरिक को मान्‍यता प्राप्‍त विश्‍वविद्यालय से स्‍नातक की उपाधि धारक होना चाहिए। फील्‍ड वर्क वाले राज्‍य की आधिकारिक भाषा में प्रवीणता होना अनिवार्य है।

इस अवसर पर अपने संबोधन में कौशल विकास और उद्यमिता सचिव डॉ. के पी कृष्‍णन ने कहा कि हमें विश्‍वास है कि कार्यक्रम के प्रति बड़ी संख्‍या में युवा आकर्षित होंगे जिससे हमें जिला प्रशासन स्‍तर  पर कौशल क्षमता को और मजबूत किया जा सकेगा। उच्‍च शिक्षा विभाग में सचिव आर सुब्रह्मण्‍यम ने कहा कि आज देश का युवा राष्‍ट्र निर्माण के प्रति सहयोग करना चा‍हता है। हमारा प्रयास यह सुनिश्चित करेगा कि उन्‍हें इसके लिए उचित अवसर मिले।

पाठ्यक्रम में प्रशिक्षण के दौरान फेलो राज्‍य कौशल विकास मिशन (एसएसडीएम) के अंतर्गत कार्य करेंगे और जिला स्‍तर पर कौशल विकास संबंधी चुनौतियों को समझने में समय व्‍यतीत करेंगे।

Related posts

अपने अंतिम बजट में मोदी सरकार दे सकती है मध्यम वर्ग को कर से राहत

Breaking News

उत्तराखंड:उत्तरकाशी जिले में हुआ दर्दनाक हादसा,गहरी खाई में गिरी टैंपो ट्रेवलर,9 तीर्थयात्रियों की मौत

rituraj

गोरखपुर: शहीद जवान के परिवार को सीएम योगी ने दी 50 लाख की मदद और नौकरी

Aditya Mishra