runners महिलाओं को रनिंग करने से हो सकती हैं ये परेशानियां, नजरअंदाज किया तो होगा नुकसान!
महिलाओं को रनिंग करने से हो सकती हैं ये परेशानियां, नजरअंदाज किया तो होगा नुकसान!

आज कल हर कोई फिट रहना चाहता है, जिसके लिये लोग जिम ज्वाइन करते हैं, योगा करते हैं एक्सरसाइज करना पसंद करते हैं, लेकिन जो लोग अपने टाइट शैड्यूल की वजह से जिम नहीं जा सकते वो रनिंग का ऑपशन अपनाकर खुद को फिट रखने की कोशिश करते हैं. हालांकी रनिंग अपनी बॉडी के लिये फायदेमंद भी होती है और हमें फिट रखने में बहुत हद तक मदद भी करती है.

लेकिन रनिंग के फायदे हर किसी के लिये एक जैसे नहीं होते. जी हां, यहां महिलाओं को थोड़ा ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है. क्योंकि रनिंग पसंद करने वाली महिलाओं को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है और अगर वो सावधानी न बरतें तो उनके लिये रनिंग फायदेमंद की जगह नुकसानदाय साबित हो सकती है. इसलिये महिलाओं को रनिंग जाने के पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है.

ब्रेस्ट साइज़
रनिंग करने से महिलाओं के ब्रेस्ट का आकार बिगड़ सकता है. क्योंकि रंनिग करते समय सबसे ज्यादा असर ब्रेस्ट पर पड़ता है. महिलाओं के ब्रेस्ट काफी बल बर्दाश्त करती हैं. इसकी वजह से किसी भी तरह का उछाल आपके रनिंग फॉर्म को भी प्रभवित कर सकता है. इससे बचने के लिये आप ब्रेस्ट के सही साइज की फिटिंग में ब्रा का इस्तेमाल करें. अगर आपकी ब्रा पैडेड है तो इससे नुकसान कम होगा.

हो सकता है इन्फेक्शन
जब भी हम रनिंग करते हैं तो हमें पसीना आता है और लोग चर्बी कम करने के लिये पसीना बहाते हैं और रनिंग करते हैं. ताकि उन्हें पसीना आए. लेकिन यही पसीना महिलाओं के लिए मुसीबत बन सकता है. दौड़ते समय वजाइना के इर्द गिर्द पसीने की समस्या होने लगती है. जिसकी वजह से जांघों में रगड़ होने लगती है. अगर आप पसीने को जल्दी नहीं सुखाती तो मूत्रमार्ग में इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है. इससे बचने के लिए आप कॉटन की पैंटी पहनें. इसके अलावा रगड़ के बढ़ने से वो एरिया काला भी पड़ सकता है. रनिंग के बाद शावर जरुर लें.

डिस्चार्ज की समस्या
रनिंग करते समय डिस्चार्ज हो सकता है. कई महिलाओं को शिकायत करते हुए देखा गया है कि रनिंग के दौरान उन्हें डिस्चार्ज होता है, लेकिन इससे डरने की जरूरत नहीं है. क्योंकि जब भी कोई महिला रनिंग करती है या कोई भी पेट पर प्रेशर करनी वाली एक्सरसाइज करती है तो डिस्चार्ज होने लगता है इसलिये ये बिल्कुल सामान्य है. रनिंग करते समय पूरा शरीर एक्टिव होता है और पेट पर भी दबाव पड़ता है. उसी दबाव के कारण डिस्चार्ज होने लगता है. इसके लिये आप रनिंग करते समय पतली लाइनर और कॉटन की पैंटी पहने. क्योंकि मोटे कपड़े से आपको वजाइना के आस-पास बैक्टीरिया, खुजली या खराब पीएच स्पर असामान्य होने की शिकायत हो सकती है.

चेफिंग या रैशेज भी हो सकते हैं
रनिंग से महिलाओं के निचले हिस्से में चेफिंग या रैशेज की समस्या बढ़ रही है. ये समस्या बिल्कुल उसी तरह की होती है जैसे कि ब्रेस्ट या निपल्स में हो जाती है. आपको इसके लिए परेशान होने की आवश्यकता नहीं रनिंग से पहले कोई भी अच्छी एंटी-चेफिंग बाम लगाकर आप अपनी झनझनाहट और जलन को कम कर सकती हैं. कॉटन बॉटम स्नग पहनें ताकि रनिंग के दौरान आपकी जांघे एक दूसरे से रगड़ न खाएं.

भारत की बेटियों ने फिर किया कमाल, मोंटेनेग्रो एड्रिएटिक पर्ल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में अव्वल

Previous article

आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिये करें ये उपाय, उतर जाएगा चश्मा भी!

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.