December 4, 2022 11:56 am
featured धर्म

Sharadiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि का पहला दिन आज, जानिए मां शैलपुत्री की पूजन विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, शुभ रंग व भोग

pic Sharadiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि का पहला दिन आज, जानिए मां शैलपुत्री की पूजन विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, शुभ रंग व भोग

Sharadiya Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि का आज से शुभारंभ हो गया है। नवरात्रि में पहले दिन देवी के शैलपुत्री स्वरूप की उपासना की जाती है। पर्वतराज हिमालय की पुत्री होने के कारण इन्हें शैलपुत्री कहा जाता है।

ये भी पढ़ें :-

Govardhan: गोवर्धन में धूमधाम से निकली मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की बारात

शास्त्रों के अनुसार, नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा की उपासना व पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों को शुभ फलों की प्राप्ति होती है। जानें मां शैलपुत्री की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, शुभ रंग व भोग….

Shardiya Navratri 2020 1st Day: पहले दिन इस तरह की जाएगी मां शैलपुत्री की पूजा, ये हैं मंत्र और कथा

मां शैलपुत्री से जुड़ी कथा
मार्केण्डय पुराण के अनुसार पर्वतराज, यानि शैलराज हिमालय की पुत्री होने के कारण इनका नाम मां शैलपुत्री का नाम शैलपुत्री पड़ा। इसके साथ ही मां शैलपुत्री का वाहन बैल होने के कारण इन्हें वृषारूढ़ा भी कहा जाता है। माता सती के आत्मदाह के बाद उनका जन्म पर्वतराज हिमालय के घर कन्या के रुप में हुआ था। जिसके बाद उनका विवाह भगवान शिव से हुआ।

नवरात्रि का पहला दिन होगी मां शैलपुत्री की पूजा, जानिए पूजा विधि, भोग और मंत्र

मां शैलपुत्री का स्वरूप

बता दे मां शैलपुत्री गौर वर्ण वाली, श्वेत वस्त्र, बैल पर सवार, हाथों में कमल और त्रिशूल धारण करती हैं। मां शैलपुत्री की पूजा करने से व्यक्ति को साहस, भय से मुक्ति, फैसलों पर अडिग रहने, कार्य में सफलता, यश, कीर्ति और ज्ञान प्राप्त होता है। साथ ही विवाहित महिलाएं अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए भी मां शैलपुत्री की पूजा करती हैं।

शैलपुत्री की पूजा का शुभ मुहूर्त

  • ब्रह्म मुहूर्त- 04:36 AM से 05:23 AM।
  • अभिजित मुहूर्त- 11:48 AM से 12:36 PM।
  • विजय मुहूर्त- 02:13 PM से 03:01 PM।
  • गोधूलि मुहूर्त- 06:01 PM से 06:25 PM।

Navratri 2021: नवरात्रि के पहले दिन करें मां शैलपुत्री की पूजा, रखें इन बातों का ध्यान - navratri 2021 First day 7 october mata shailputri puja vidhi bhog tlifd - AajTak

मां शैलपुत्री मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे ॐ शैलपुत्री देव्यै नम:।

मां शैलपुत्री पूजा विधि
नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। हिमालय की पुत्री होने के कारण माता रानी को शैलपुत्री कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना करने से मान-सम्मान में वृद्धि व उत्तम सेहत प्राप्त होती है। मां शैलपुत्री को सफेद वस्त्र अतिप्रिय हैं। ऐसे में नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा को सफेद वस्त्र या सफेद पुष्प अर्पित करना चाहिए। इसके साथ ही सफेद बर्फी या मिठाई का भोग लगाना शुभ माना जाता है।

शैलपुत्री माता की सही पूजन विधि - माता का पहला नवरात्रा

मां शैलपुत्री भोग

मां दुर्गा के शैलपुत्री रूप को गाय के घी और दूध से बनी चीजों का भोग लगाया जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से मां शैलपुत्री प्रसन्न होती हैं।

शैलपुत्री का शुभ रंग

नवरात्रि का पहला दिन मां शैलपुत्री की अराधना का दिन होता है। मां शैलपुत्री का पसंदीदा रंग लाल है।

Related posts

सीएम योगी ने किया सम्राट मिहिर भोज मूर्ति का अनावरण, गौतम बुद्ध नगर को दी कई सौगात

Rani Naqvi

देश में लगातार जारी कोरोना की कहर, संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर हुई 78 हजार

Shubham Gupta

कांग्रेस पार्टी में इस्तीफों का दौर जारी, 6 और विधायक छोड़ सकते हैं पार्टी

Pradeep sharma