शनि जयंती-ऐसे करे पूजा मिलेगा लाभ

नई दिल्ली। शनि देव का हमारे जीवन में क्या महत्व है ये हम सभी जानते है। जेष्ठ माह की अमावस्या को शनि जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस बार ये अमावस्या 15 मई को है। कहते है कि आज के दिन अगर कोई व्यक्ति शनि देव की पूजा करते है तो उसकी साढ़े साती शनिदेव की पूजा करने से समाप्त हो जाती है। जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती चल रही है उन लोगों को शनि जयंती के दिन शनिदेव की पूजा अराधना करना जरूरी माना गया है। माना जाता है कि इस दिन पूजा -अर्चना और दान करने से शनि शांत होते हैं, और प्रभावित जातक के कष्ट दूर करते हैं।

शनिदेव के ग्रहों से संबध

शनिदेव को मकर राशि और कुंभ राशि का स्वामी माना गया है। बुध और शुक्र को शनिदेव के मित्र माना गया है जबकि सूर्य चंद्रमा और मंगल को इनका शत्रु माना गया है। वहीं गुरु से इनका संबंध समभाव का है। शनिदेव को भगवान सूर्य के पुत्र हैं।

शनिदेव की पूजा करने में काले रंग की चीजें विशेष रूप से अर्पित की जाती हैं। शनिदेव की पूजा- चावल, काले तिल, काला धागा, फूल(संभव हो तो काले रंग के), सरसों का तेल, मिठाई, अगरबत्ती, दीपक और मौसमी फल।

पूजा में ध्यान रखें ये बातें-

मान्यताओं के अनुसार, स्नान करके शुद्ध अवस्था में पुरुषों को शनिदेव की पूजा करनी चाहिए।
शनि का प्रभाव यदि आपकी राशि में है तो शनि जयंती (15 मई 2018) को शनि की पूजा जरूर करें।
आपकी राशि में साढ़े साती या ढैया है तो शनिदेव की पूजा निश्चितरूप से करें।
जिनका लोहे से जुड़ा कारोबार है उन्हें भी शनि की पूजा करनी चाहिए।