उधमसिंहनगर में शक्तिफार्म, सितारगंज में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर सीएम रावत

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बीते मंगलवार को शक्तिफार्म (टैगोर नगर), उधमसिंहनगर के दुर्गा पूजा मंदिर प्रांगण में 07 करोड 60 लाख 41 हजार रूपये की लागत के शक्तिफार्म से तीनपानी मार्ग का शिलान्यास किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने भूमि विनियमितीकरण वर्ग-4, वर्ग-8, वर्ग-20 की भूमि की विनियमितीकरण कर 24 पात्र लोगों को भूमिधरी अधिकार प्रदान किये।

बता दें कि इस अवसर पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले एक वर्ष में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया है, ताकि लोगों को पारदर्शी सुशासन मिल सके। उन्होंने कहा कि ऊर्जा विभाग के राजस्व में बढ़ोत्तरी हुयी है, आने वाले साल में ऊर्जा से 300 करोड रूपये का मुनाफा कमायेंगे। उन्होंने कहा कि रोडवेज को घाटे से उबारने के उपाय किये जा रहे है। इस वर्ष सरकार को खनन से 400 करोड रूपये का राजस्व प्राप्त हुआ है, अगले वर्ष इसे बढ़ाकर 800 करोड किया जायेगा।

वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का अगला फोकस रोजगार सृजन पर रहेगा। इसके लिए ब्लॉक और जिला स्तर पर गोष्ठियां आयोजित की जायेंगी, उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति अपनी शिकायत व सुझाव 1905 नम्बर पर दर्ज करा सकते हैं। पिछले दिनों आई अतिवृष्टि से जिन किसानों की फसल नष्ट हुई है, उन्हें 02 माह के अन्दर मुआवजे का भुगतान कर दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील कि की जिनकी भूमि का विनियमितीकरण किया जाना है, वह 19 अगस्त, 2018 तक करा लें।

साथ ही भूमि का विनियमितीकरण वर्ष 2000 के सर्किल रेट पर किया जा रहा है, उसके बाद यह वर्तमान सर्किल रेट पर किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्राम गोठा व बग्घा मे वन भूमि हस्तांतरण के प्रस्ताव शीघ्र बनाये ताकि वहां सडक निर्माण कराया जा सके। कार्यो मे पारदर्शिता लाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा ई-टेंडरिंग से कार्य आवंटित किये जा रहे है। शराब के ठेकों का ई-टेंडरिंग कराने से 11 गुना तक बढे़ हुए टेंडर प्राप्त हुए है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने सिरसा से शक्तिफार्म तक 13 किमी की सडक बनाने, सूखी नदी में पुल निर्माण, गोठा मे 02 किमी की सडक निर्माण, सितारगंज मे बस अड्डा निर्माण तथा शक्तिफार्म मे 108 इमरजेंसी सेवा चलाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने सितारगंज व शक्तिफार्म मे शीघ्र डॉक्टर नियुक्त करने की बात कही। स्थानीय लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि सिडकुल में मजदूरो को बहुत कम मजदूरी मिलती है, इस पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी से जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में पूरे भारत से बच्चे पढ़ने आते है, यह उत्तराखण्ड भारत का लघु रूप है। इसलिए यहां की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए भारत-भारती कार्यक्रम चलाये जायेंगे।इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, विधायक सौरभ बहुगुणा, राजेश शुक्ला, जिला पंचायत अध्यक्ष ईश्वरी प्रसाद गंगवार, जिलाधिकारी डॉ.नीरज खैरवाल, एस.एस.पी. डॉ.सदानन्द दाते सहित जनपद स्तरीय अधिकारी, क्षेत्रीय जनता व स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।