featured यूपी

बच्चों को कोरोना प्रोटोकाल के साथ भेजें स्कूलः डॉ. आनंद श्रीवास्तव

कोरोना प्रोटोकाल के साथ भेजे स्कूलः

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के मामले आना कम जरूर हुए हैं, लेकिन पूरी तरह खत्म नहीं हुए हैं। ऐसे में बच्चों को सुरक्षित रखने की माता-पिता के साथ ही शिक्षकों की जिम्मेदारी और बढ़ गई है। अब स्कूल भी खुलने लगे हैं, ऐसे में अभिभावक अपने बच्चों को पूरी सावधानियों के साथ और कोरोना प्रोटोकाल के तहत बच्चों को स्कूल भेजें। यदि बच्चों में कोई लक्षण दिखें तो उन्हें स्कूल न भेजें और चिकित्सक से परामर्श लें। यह बातें मुख्य वक्ता केजीएमयू के पल्मोनरी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. आनंद श्रीवास्तव ने गुरुवार को सरस्वती कुंज निरालानगर स्थित प्रो. राजेन्द्र सिंह रज्जू सूचना संवाद केंद्र में कहीं।

डा. आनन्द श्रीवास्तव ने कहा कि कोरोना तीसरी लहर संभवतरू आएगी, लेकिन यह किस रूप में आएगी, यह कहना मुश्किल है। हालांकि कुछ सावधानियां बरतकर इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अभिभावक कोरोना प्रोटोकाल का पूरी तरह पालन करें, ताकि बच्चे भी उनका अनुसरण कर सकें। उन्होंने कहा कि दो गज की दूरी, मास्क और हाथों का सेनेटाइजेशन करना न भूलें। इसके साथ ही उन्होंने बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए खान-पान पर विशेष ध्यान देने पर जोर दिया और कहा कि उन्हें फास्ट फूड की जगह हरी सब्जियों को खिलाने की आदत डालें। उन्होंने कहा कि वयस्कों का टीकाकरण हो जाने से संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। ये भ्रम न रखें कि वैक्सीन लग गई है तो कोरोना नहीं होगा, सिर्फ इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है, इसलिए सावधानी रखनी होगी।
कार्यक्रम अध्यक्ष विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष रामकृष्ण चतुर्वेदी ने कहा कि कोरोना की पहली लहर के समय इससे बारे में ज्यादा नहीं पता था, लेकिन अब समाज में काफी जागरूकता आई है। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर से भी हम उत्साह के साथ निपटेंगे, लेकिन अब स्कूल खुलने लगे है, इसलिए अभिभावकों को और अधिक सावधानी बरतनी होगी। विद्या भारती के शिक्षक अभिभावकों और छात्रों को कुटुम्ब प्रबोधन के जरिए जागरूक करने का भी प्रयास कर रहे हैं। इसके साथ ही स्कूलों में भी वातावरण को बदलने पर विशेष जोर दिया गया है, ताकि बच्चे सुरिक्षत रह सकें। उन्होंने कहा कि बच्चों की इम्युनिटी प्रकृति प्रदत्त मजबूत होती है, सिर्फ उनके मनोबल को बनाए रखें और उनके अंदर डर पैदा न होने दें। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का पालन करने पर जोर दिया।
इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रचार प्रमुख नरेन्द्र सिंह, रजनीश वर्मा, अभिषेक, शुभम सिंह, अतहर रजा, शोभित सहित डिजिटल टीम मौजूद रही।

Related posts

मेरठ: रक्षाबंधन से पहले डाक विभाग ने दिया बहनों को तोहफा, लॉन्च किया ये लिफाफा

pratiyush chaubey

छत्तीसगढ़ः मुख्यमंत्री ने सीतापुर में दी 455 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

mahesh yadav

सतीश चंद्र मिश्र ने बताया जीत का फार्मूला, कहा- अगर 13 प्रतिशत ब्राह्मण मिले और..

Aditya Mishra