September 22, 2021 11:07 pm
featured यूपी

यूपी से आ रही स्कार्पियो ने ईट से भरे ट्रैक्टर ट्रॉली को मारी टक्कर, 12 लोगों की मौत

टक्कर यूपी से आ रही स्कार्पियो ने ईट से भरे ट्रैक्टर ट्रॉली को मारी टक्कर, 12 लोगों की मौत

मुजफ्फरपुर। कांटी थाना अंतर्गत एनएच 28 के समरसपुर में शनिवार की अलसुबह यूपी से आ रही एक स्कार्पियो ने ईंट लदे टै्रक्टर में पीछे से टक्कर मार दी। जिससे स्कार्पियो के परखचे उड़ गए। वहीं ट्रैक्टर ट्रॉली बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। घटना में ट्रैक्टर सवार मीनापुर के पानापुर निवासी एक मजदूर सहित 12 लोगों की मौत हो गई। मरनेवालों में हथौड़ी के डीहजीवर के 10 और मीनापुर के धारपुर चैनपुर व पानापुर के एक-एक लोग शामिल हैं। जबकि तीन गंभीर रूप से घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया है। सभी होली में शामिल होने यूपी के फैजाबाद और बस्ती से घर लौट रहे थे। 

बता दें कि मौत की सूचना मिलते ही गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। हादसे के बाद घटनास्थल पर लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। जिससे सड़क जाम हो गया। एनएच पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया। क्षतिग्रस्त वाहनों को भी वहां से हटाया गया। जिसके बाद आवागमन शुरू हो सका। 

वहीं हथौड़ी के डीह जीवर गांव के 10 लोगों की मौत हो गई। जिसमें रामवरण सहनी, मनीष साह, विकास कुमार, सिकंदर सहनी, राजू सहनी, ध्रुव सहनी, जयकरण सहनी, रितिक रोशन, रंजन साह व कमलेश सहनी शामिल हैं। जबकि गोकुल मांझी (मीनापुर के पानापुर) व अरुण सहनी (मीनापुर के चैनपुर निवासी) की भी मौत हो गई।अजय सहनी, दीनानाथ सहनी व रोहिन साह (सभी हथौड़ी के डीह जीवर) घायल हैं। रोहिन साह की स्थिति गंभीर होने पर निजी नर्सिंग होम से पटना रेफर कर दिया गया है। 

साथ है हथौड़ी डीहजीवर के बिकाऊ सहनी ने बताया कि उन्हें भी इन्हीं लोगों के साथ स्कार्पियो से घर आना था, लेकिन कल रात कुछ अन्य लोग ट्रेन से आ रहे थे। मैं भी उनके साथ ही आ गया। सुबह ही घटना की जानकारी मिली। हमलोग वर्षों से यूपी के फैजाबाद व बस्ती इलाके में रहकर मकान बनाने का काम करते हैं।  हादसे में एक ही परिवार के तीन व दो अन्य परिवार के दो-दो सदस्यों की मौत हो गई। रामनंदन सहनी के पुत्र राजू सहनी, रामवरण सहनी व पौत्र कमलेश सहनी की मौत हो गई। वहीं अरुण साह के दो पुत्रों मनीष साह व विकास कुमार और जयकरण सहनी व रितिक रोशन (चाचा-भतीजा) की मौत को गई। एक साथ 13 शवों के पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच पहुंचने पर वहां अफरातफरी मच गई। पोस्टमार्टम हाउस के पास परिजनों व लोगों की भीड़ लग गई। परिजनों के चित्कार से परिसर गमगीन हो गया।

Related posts

ओपिनियन पोल: एमपी में फिर शिवराज राज,सीटें होगी कम लेकिन खिलेगा कमल

lucknow bureua

अखिलेश की बैठक के दौरान मुलायम से मिले बड़े नेता

piyush shukla

पत्थरबाजों की मदद से फिर बचा आतंकी जाकिर मूसा

piyush shukla