September 25, 2021 3:11 pm
साइन्स-टेक्नोलॉजी

Jupiter X-Ray Aurora: वैज्ञानिकों ने खोलीं बृहस्पति के एक्स-रे की परतें

nasa Jupiter X-Ray Aurora: वैज्ञानिकों ने खोलीं बृहस्पति के एक्स-रे की परतें

हमारे बृह्मांड का सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति अपने आप में कई पहेलियों को छिपाए है। इनमें से एक ऐसी है जिसका जवाब धरती के साथ उसकी समानता को दिखा सकता है। एक नई स्टडी में पाया गया है कि बृहस्पति के Aurora से आने वाली रहस्यमय एक्स-रेज से पता चलता है कि यह प्रक्रिया धरती की तरह हो सकती है। धरती पर Aurora (Northern या Southern Lights) तब बनती है, जब सूरज से आने वाला रेडिएशन धरती की मैग्नेटिक फील्ड यानी चुंबकीय क्षेत्र से टकराता है।

धरती की तरह ही कई दूसरे ग्रहों के ध्रुवों पर भी ये दिखाई देते हैं। बृहस्पति की मैग्नेटिक फील्ड धरती से 20 हजार गुना ज्यादा शक्तिशाली है। इसलिए यहां बनने वाले Aurora भी ज्यादा एनर्जी वाले होते हैं। बृहस्पति के चांद Io से निकलने वाले इलेक्ट्रिकली चार्ज्ड सल्फर और ऑक्सीजन आयन से बनती हैं। स्टडी के सह-रिसर्चर झॉन्गहुआ याओ ने बताया कि यह पूरी प्रक्रिया क्या होती है, इसे करीब 40 साल से वैज्ञानिक समझने की कोशिश कर रहे थे। इसके लिए रिसर्चर्स ने बृहस्पति का चक्कर काट रहे NASA के Juno प्रोब की मदद ली और इसके चुंबकीय क्षेत्र को स्टडी किया।

इसके साथ ही, धरती का चक्कर काट रहे यूरोपियन स्पेस एजेंसी के XMM-Newton टेलिस्कोप की मदद से बृहस्पति की एक्स-रेज का अनैलेसिस किया। बताया जा रहा है कि बृहस्पति के हर Aurora से इतनी ऊर्जा निकलती है जो धरती पर कोई एक पावर स्टेशन कई दिन में बनाएगा। ये एक्स-रे Aurora घड़ी की तरह लगातार बीट्स पर चलती हैं।

वाइब्रेशन की वजह से प्लाज्मा जनरेट होता है जो हेवी आयन्स को मैग्नेटिक फील्ड लाइन्स पर पहुंचा देता है। वहां से वायुमंडल से टकराने पर ये एक्स-रे की शक्ल में ऊर्जा रिलीज करती हैं। ऐसे ही प्लाज्मा की तरंगों के कारण धरती पर Aurora बनता है। स्टडी में दावा किया गया है कि बृहस्पति की विशालता के बावजूद Aurora बनने की प्रक्रिया एक सी ही है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अंतरिक्ष के पर्यावरण की प्रक्रियाएं एक सी ही होती हैं।

Related posts

350 तहसीलों में 1000 कंप्यूटर ऑपरेटर भर्ती करने की तैयारी में योगी सरकार

sushil kumar

धरती पर उल्का पिडों की बारिश बढ़ा रही वैज्ञानिकों की धड़कन, जानिए कब दिखेगा ये नजारा..

Rozy Ali

एक्सीडेंट होने पर भी रहेंगे सेफ, टू व्हीलर में इस्तेमाल होगी अब ये टेक्नोलॉजी….

pratiyush chaubey