SC ने खालिदा की जमानत पर लगाई रोक, हाईकोर्ट के फैसले को किया खारिज

SC ने खालिदा की जमानत पर लगाई रोक, हाईकोर्ट के फैसले को किया खारिज
ढाका। भ्रष्टाचार के मामले में पांच साल की सजा पाने वाली पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया की जमानत पर बांग्लादेश के सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है। वहीं सुप्रीम कोर्ट की इस रोक के बाद खालिदा जिया की पार्टी बीएनपी के कार्यकर्ताओं ने उनकी बिना शर्त मांग को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन का ऐलान किया है। दरअसल भ्रष्टाचार के मामले में 72 वर्षिय जिया को आठ फरवरी को पांच साल जेल की सजा सुनाई गई थी। उन्होंने अपने दिवंगत पति जिया-उर-रहमान के नाम पर एक ट्रस्ट बनाया था, जिसके द्वारा उन पर धांधली करने का आरोप है।
जमानत पर रोक को लेकर अटॉर्नी जनरल के कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट की अपील डिविजन की पूर्ण पीठ ने खालिदा जिया की जमानत पर आठ मई तक के लिए रोक लगा दी है, जिसका मतलब साफ है कि पूर्व प्रधानमंत्री को आठ मई से पहले रिहा नहीं किया जा सकता। बता दें कि जिया को हाई कोर्ट ने चार महीने की अंतरिम जमानत दी थी। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में मामला दर्ज कराया गया था।
आदेश पारित करने के बाद हुसैन ने कहा कि मामले में रेकॉर्डों को देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट के सभी जज सर्वसम्मति से इस नतीजे पर पहुंचे। न्यायमूर्ति हुसैन ने सरकार और भ्रष्टाचार निरोधी आयोग( एसीसी) के साथ- साथ जिया के वकीलों को भी दो हफ्तों के अंदर जवाब दाखिल कर अपना पक्ष रखने को कहा है। इसी मामले में जिया के बेटे तारिक रहमान और चार अन्य को 10 साल जेल की सजा सुनाई गई।