November 30, 2022 4:23 am
featured देश राज्य

जम्मू-कशमीर: आतंकियों ने गोली चलाई तो उन्हें बुके की उम्मीद नहीं करनी चाहिए- सत्यपाल मलिक

जम्मू-कशमीर: आतंकियों ने गोली चलाई तो उन्हें बुके की उम्मीद नहीं करनी चाहिए- सत्यपाल मलिक

नई दिल्ली:राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आतंकवाद पर कड़े तेवर दिखाते हुए कहा है कि यदि आतंकियों ने गोली चलाई तो उन्हें बुके की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। अगस्त से अब तक 40 से अधिक आतंकी मारे जा चुके हैं। उनकी उम्र बहुत लंबी नहीं है। पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई है। कुल मिलाकर राज्य में स्थिति बहुत गंभीर नहीं है।

 

satyapal malik जम्मू-कशमीर: आतंकियों ने गोली चलाई तो उन्हें बुके की उम्मीद नहीं करनी चाहिए- सत्यपाल मलिक

 

ये भी पढें:

 

जम्मू-कश्मीर: बडगाम में आतंकियों ने सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी के घर पर किया हमला, दो हथियार लूट
जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़, 3 आतंकी ढे़र, एक जवान शहीद

राज्यपाल ने मिडीया से कहा कि यह सीधा फंडा है। गोली चलाओगे तो गोली चलेगी। कोई गुलदस्ता तो मिलेगा नहीं। जब से उन्होंने कार्यभार संभाला है तबसे 40 से अधिक आतंकी मारे जा चुके हैं। पत्थरबाजी में भी कमी आई है। आतंकी संगठनों में भर्ती होने वाले युवाओं की संख्या में भी कमी आई है। वह संतुष्ट हैं कि इस मोर्चे पर कोई चिंताजनक स्थिति नहीं है।

 

उन्होंने कहा कि उनकी यह धारणा सरकारी ब्रीफिंग से नहीं बनी है बल्कि आम जनता की ओर से भी इसी प्रकार का फीडबैक मिला है। उन्होंने कहा कि युवाओं के कई संगठनों की बात ध्यान से सुनी है। वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि 13-20 साल के युवा समूहों की जरूरतों को पूरा किया जाना आज के समय की आवश्यकता है।

 

मलिक ने कहा कि घाटी के युवा नाखुश है। वह केवल नई दिल्ली से ही नहीं बल्कि पाकिस्तान, स्थानीय राजनीतिक पार्टियों और हुर्रियत से भी नाखुश हैं। वह उम्मीद की कोई किरण नहीं देख पा रहा है। इसलिए उनसे संपर्क करने तथा उनकी आकांक्षाओं के अनुरूप काम करने की जरूरत है ताकि उन्हें यह महसूस हो सके कि केंद्र उनके खिलाफ नहीं है।

राज्यपाल ने कहा कि रिसर्च स्कालर से आतंकी बने मन्नान वानी के मारे जाने के बाद गलत सूचनाओं के आधार पर कथा गढ़ी गई है। कई पढ़े लिखे लोग गलत काम करते हैं। घाटी में लगभग 400 आतंकी सक्रिय हैं। भारत जैसे देश के लिए इन 400 आतंकियों से छुटकारा पाना कोई मुश्किल काम नहीं है। लेकिन प्रयास यह है कि आतंकवाद को जड़ से खत्म किया जाए न कि आतंकियों को।

 

ये भी पढें:

 

जम्मू-कश्मीर: राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा – उनकी सरकार रियासत से आतंकवाद का खात्मा करेगी
जम्मू-कश्मीर: निकाय चुनाव के लिए वोटिंग के बीच पुलवामा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ जारी

Related posts

डिमटेरियलाइजेशन के प्रमुख लाभ अब से गैर-सूचीबद्ध सार्वजनिक कंपनियों को उपलब्ध होंगे-एमसीए

mahesh yadav

गोवर्धन: परिजनों ने मचाया कोहराम, लापता बच्चे की शिकायत पर पुलिस ने नहीं की कोई कार्यवाही

Neetu Rajbhar

वाराणसी में व्यापारियों ने लिया ये बड़ा फैसला, आप पर होगा ये असर

Aditya Mishra